खोज

Vatican News
कैलिफोर्निया के साक्रामेंटो में संत जुनिपेरो सेरा की प्रतिमा कैलिफोर्निया के साक्रामेंटो में संत जुनिपेरो सेरा की प्रतिमा  (AFP or licensors)

धर्माध्यक्ष ने जुनिपेरो की प्रतिमा नष्ट करने वालों की निन्दा की

धर्माध्यक्ष जेमी सोटो कैलिफोर्निया के साक्रामेंटो में संत जुनिपेरो सेरा की मूर्ति को नष्ट करने की आलोचना करते हैं, और प्रदर्शनकारियों से समुदाय का निर्माण करने का आग्रह करते हैं, इसे तोड़ने का नहीं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

साक्रामेंटो, मंगलवार 7 जुलाई 2020 (वाटिकन न्यूज) : कैलिफोर्निया की राज्य की राजधानी साक्रामेंटो में भीड़ ने 4 जुलाई की शाम को सेंट जुनिपेरो सेरा की एक मूर्ति को नष्ट कर दिया।

एक विरोधकर्ता ने प्रतिमा के चेहरे को जला दिया, समूह ने प्रतिमा को गिरा दिया और उसे एक स्लेजहामर से तोड़फोड़ दिया। स्थानीय समाचार आउटलेट्स ने बताया कि भीड़ ने संत की टूटी प्रतिमा के उपर नाचते हुए यह नारा लगाने लगे, "उठो, मेरे लोगों, उठो।"

कैलिफोर्निया राजमार्ग पुलिस ने समूह को तितर-बितर करने के लिए हस्तक्षेप किया और एक जांच शुरू की है।

बर्बरता से उपर संवाद

साक्रामेंटो के धर्माध्यक्ष जेमी सोटो ने रविवार को एक बयान में बर्बरता की कार्रवाई का जवाब दिया।

उन्होंने कहा, "समूह के ये कारनामें कैलिफोर्निया के अतीत के दुखद, क्रोधित यादों पर ध्यान आकर्षित करने के लिए हो सकती हैं, लेकिन बर्बरता का यह कार्य भविष्य का निर्माण करने के लिए अपयुक्त नहीं है। नस्लवाद के प्लेग को लूटपाट और तोड-फोड़ से काबू में नहीं लाया जा सकता।"

उन्होंने कहा, "संवाद को बर्बरता की ओर अग्रसर नहीं होना चाहिए।"

संत जुनिपेरो सेरा 

संत जुनिपेरो सेरा स्पेन (1713-1784) के एक फ्रांसिस्कन धर्मसंघ के काथलिक मिशनरी पुरोहित थे। उन्होंने कैलिफोर्निया में कई स्पेनिश मिशनों की स्थापना की, हजारों मूल अमेरिकियों को ख्रीस्तीय धर्म स्वीकार करने और नई कृषि तकनीकों से खेती करने में मदद की।

संत पापा फ्राँसिस ने संयुक्त राज्य अमेरिका की अपनी प्रेरितिक यात्रा के दौरान वाशिंगटन डी.सी. में 25 सितंबर 2015 को फादर जुनिपेरो सेरा को संत घोषित किया था।  

कुछ लोगों ने संत की विरासत की आलोचना की और उन्हें यूरोपीय उपनिवेशवादियों का प्रतीक कहा।

औपनिवेशिक काल की बुराइयों को नकारना

धर्माध्यक्ष सोटो ने औपनिवेशिक काल की "दिल तोड़ने वाली विरासत" को मान्यता दी। "ऐसा कोई सवाल नहीं है कि कैलिफ़ोर्निया के स्थानीय लोगों ने औपनिवेशिक काल के दौरान बड़ी पीड़ा को सहन किया और फिर बाद में कैलिफोर्निया के नवजात राज्य के तहत सरकार द्वारा स्वीकृत नरसंहार के आतंक का सामना किया।"

उसी समय फादर सेरा ने औपनिवेशिक प्रणाली के तहत काम किया लेकिन उन्होंने उनकी बुराइयों का खंडन किया और स्थानीय लोगों की गरिमा की रक्षा करने के लिए काम किया।" धर्माध्यक्ष सोटो ने कहा, "मिशनरी के रूप में फादर सेरा की पवित्रता को उनके खुद की असफलताओं या शोषण को रोकने के लिए नहीं मापा जाना चाहिए, यहां तक ​​कि उनके व्यक्तिगत दोष भी।"।

समुदाय का निर्माण करें, इसे तोड़ें नहीं

कैलिफोर्निया में हाल के हफ्तों में प्रदर्शनकारियों द्वारा संत सेरा की प्रतिमा तोड़े जाने वाली यह तीसरी घटना है। एक को सैन फ्रांसिस्को में और दूसरे को लॉस एंजेलिस में तोड़ा गया। दोनों 19 जून को ही तोड़ा गया।

धर्माध्यक्ष सोटो ने कहा, "सभी स्मारक अमेरिका के संस्थापक आदर्शों पर खरा उतरने के हमारे प्रयासों के समान ही अपूर्ण हैं। हमारा प्राथमिक कार्य हमारे समुदाय का निर्माण करना है, इसे तोड़ना नहीं है।"

07 July 2020, 14:02