खोज

Vatican News
फिलीपींस का एक गिरजाघर फिलीपींस का एक गिरजाघर 

"राष्ट्रीय चंगाई" हेतु फिलीपींस में 21 दिनों की प्रार्थना

एशियाई देशों में विभिन्न चुनौतियों के कारण तीन सप्ताहों की सामूहिक प्रार्थना का आयोजन किया गया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

फिलीपींस, बृहस्पतिवार, 16 जुलाई 2020 (वीएन)- महाधर्माध्यक्ष विलगास ने लिखा है कि "माता मरियम की सहायता से हम कभी असहय नहीं होंगे।" फिलीपींस में लिंगायेन – डागूपान के महाधर्माध्यक्ष सोक्रेस विलगास ने 21 दिनों की प्रार्थना का आह्वान किया है जिसमें देश की "राष्ट्रीय चंगाई" के लिए प्रार्थना की जाएगी, जो कोरोना वायरस महामारी के साथ कई प्रकार सी चुनौतियों का सामना कर रहा है।

इसकी शुरूआत 16 जुलाई को कार्मेल की माता मरियम के पर्व से की जाएगी और 5 अक्टूबर संत मरिया मेजर महागिरजाघर के समर्पण पर्व तक जारी रहेगी। महाधर्मप्रांत के पल्ली पुरोहितों के लिए- फिलीपीनी काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के वेबसाईट में प्रकाशित पत्र में – महाधर्माध्यक्ष विलगास ने उस असहाय एवं निराशा की स्थिति की ओर ध्यान आकृष्ट किया है जो देश के ऊपर मंडरा रहा है। उन्होंने स्वास्थ्य आपालकाल एवं सामाजिक-राजनीतिक अस्थिरता पर गौर किया है जो सभी को असमंजस में डाल दिया है कि हम एक आध्यात्मिक धर्मगुरू के रूप में किस तरह सेवा करें एवं संकट के इस समय में प्रभु के शिष्य बने रह सकें।

महाधर्माध्यक्ष ने लिखा है कि हम कुँवारी मरियम का आह्वान करें, क्योंकि यदि हम उनसे जुड़े होंगे तब हम कभी असहय नहीं होंगे।

महाधर्माध्यक्ष विलगास ने बतलाया है कि 21 संख्या का अर्थ है मिस्र से मुक्त होने के बाद इस्राएलियों ने 21 बार बगावत की थी। 

महाधर्माध्यक्ष ने कहा है कि "आज हम ईश्वर के विरूद्ध विद्रोह करने की स्थिति में हैं और इसलिए, हम अपने पापों के परिणामों को देख रहे हैं।" हमें पश्चाताप करना चाहिए यदि हम चंगाई पाना चाहते हैं, विशेषकर, 21 दिनों के दौरान। उन्होंने निर्देश दिया है कि माता मरियम को देश के प्रति समर्पण एवं चंगाई की प्रार्थना को हरेक मिस्सा में की जाए। रोजरी के बाद परिवारों में भी इसे करने के लिए प्रोत्साहित किया जाए।"   

5 अगस्त को इस पहल के अंतिम दिन मनाओग की माता मरियम को समर्पित महागिरजाघर में समारोही ख्रीस्तयाग का अनुष्ठान किया जाएगा। महामारी के कारण सीमित जगह के चलते ख्रीस्तयाग में केवल धर्मप्रांत के पुरोहित एवं धर्मसमाजी उपस्थित होंगे। हालांकि, ख्रीस्तयाग को सामाजिक संचार माध्यमों द्वारा सीधा प्रसारित किया जाएगा ताकि सभी विश्वासी भाग ले सकें।

महाधर्माध्यक्ष ने लिखा, "हम निराशा एवं उदासी को आने न दें बल्कि माता मरियम के पास आयें, उनपर भरोसा रखें एवं सांत्वना की खोज करें।"  

16 July 2020, 15:21