खोज

Vatican News
अमरीका के मिशनरी फादर यूजीन एडवर्ड होमरिक अमरीका के मिशनरी फादर यूजीन एडवर्ड होमरिक 

गारो लोगों के मिशनरी फा. होमरिक के निधन पर बंगलादेशी शोकित

बंगलादेश के ख्रीस्तीय एवं मुस्लिम, अमरीका के मिशनरी फादर यूजीन एडवर्ड होमरिक के निधन पर शोक मना रहे हैं। फादर यूजीन का निधन तीन दिनों पहले कोविड-19 से हुआ, वे 92 साल के थे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

बंगलादेश, मंगलवार, 28 जुलाई 2020 (एशियान्यूज)- फादर यूजीन करीब 60 सालों तक बंगलादेश की सेवा करने के बाद, स्वास्थ्य संबंधी समस्याओं एवं कथित इस्लामी चरमपंथी समूह द्वारा मौत की धमकी मिलने के कारण 2016 में अमरीका लौट गये थे। 

रविवार को बंगलादेश के पिरगाचा पल्ली गिरजाघर में करीब 100 लोग जमा होकर मेमेन्सिंघ धर्मप्रांत में फादर यूजीन के असाधारण योगदान की याद की।

इस धर्मप्रांत में अधिकांश गारो जाति के लोग रहते हैं। फादर यूजीन की सेवा का अधिकांश हिस्सा उन्हीं के लिए समर्पित था। उन्होंने गारो संस्कृति को जीवित रखने के लिए दो उच्च विद्यालय एवं 28 प्राथमिक स्कूल खोले।

गारो महिला सुरमा चिरान ने कहा, "फादर होमरिक आधुनिक गारो समुदाय के पिता कहे जाते हैं। यदि वे मेमेनसिंघ नहीं आये होते, तब आदिवासी समुदाय हमारी संस्कृति को नहीं बचा पाता।"

उन्होंने याद किया कि "एक बार फादर ने कहा था कि धर्म और जाति एक चीज नहीं होती है। अतः उन्होंने हमारे विश्वास को जीने और साथ ही पूर्वजों द्वारा प्राप्त अपनी संस्कृति को भी बनाये रखने की सलाह दी थी। मैं अत्यन्त सौभाग्यशाली हूँ कि मुझे उनसे मुलाकात करने का अवसर मिला और उनसे मैंने काथलिक होने का अर्थ समझा।"

मेमेनसिंघ धर्मप्रांत के गारो पुरोहित फादर सिमोन हाका ने इस बात पर जोर दिया कि 60 सालों के प्रेरितिक जीवन में ने गारो लोगों के सामाजिक- आर्थिक स्थिति को बदल डाला।

स्कूल एवं स्वास्थ्य केंद्रों की स्थापना कर एवं प्रताड़ित गारो समुदाय की रक्षा कर फादर यूजीन हमारे जीवन के एक अपरिहार्य संदर्भ बन गये हैं। जब उन्हें अमरीका लौटना था तब लोगों ने आँसू बहाते हुए उन्हें विदाई दी। आज हम उनके निधन के शोक समाचार को सुनकर रो रहे हैं।

फादर हाका ने कहा कि फादर यूजीन का जीवन एवं मिशन सफलताओं से भरा था। वे गारो समुदाय के मित्र थे और हमेशा इसकी संस्कृति को बढ़ावा देते थे। वे मिस्सा के दौरान गारो के वाद्य यंत्रों, भाषा एवं संगीत को लेने का प्रोत्साहन देते थे। जब गारो लोगों पर अत्याचार हो रहा था उन्होंने हमेशा इसके लिए संघर्ष किया।  

बंगलादेश के मुस्लमानों ने भी फादर यूजीन के निधन पर शोक व्यक्त किया। एक मुसलमान सोएनाल अबदिन ने कहा, "मैंने फादर होमरिक से कई बार मुलाकात की थी। वे एक काथलिक थे किन्तु एक मुसलिम के रूप में मेरा सम्मान करते थे। हमने अच्छी तरह बातचीत की थी। सर्वशक्तिमान अल्लाह उन्हें अनन्त शांति प्रदान करें।"

फादर यूजीन एडवर्ड होमरिक का जन्म अमरीका के मिशिगन में 1928 में हुआ था। वे 1955 में बंगलादेश आये थे। भाषा सीखने के बाद उन्होंने ढाका के धर्मप्रांत की सेवा तीन सालों तक की सन् 1959 में वे मेमेनसिंघ धर्मप्रांत के जलकात्रा पल्ली भेजे गये जहाँ 2016 तक कार्य किया।  

गारो एक तिब्बत-वर्मा आदिवासी समूह है जो भारत में भी रहते हैं। लगभग 120,000 बांग्लादेश में रहते हैं और ज्यादातर ईसाई हैं।

28 July 2020, 16:13