खोज

Vatican News
मनीला में कोरोना वायरस के कारण रुके श्रमिकों का दृश्य मनीला में कोरोना वायरस के कारण रुके श्रमिकों का दृश्य 

सऊदी अरब में फिलिपिनो मौतों की जांच का आग्रह

फिलीपींस की काथलिक कलीसिया ने सरकार से सऊदी अरब में 350 से अधिक फिलिपिनो श्रमिकों की मौतों की जाँच का आह्वान किया है, जिनकी मौत, कथित रूप से, प्राकृतिक कारणों से हो गई थी।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

मनीला, शुक्रवार, 26 जून 2020 (रेई, वाटिकन रेडियो): फिलीपींस की काथलिक कलीसिया ने  सरकार से सऊदी अरब में 350 से अधिक फिलिपिनो श्रमिकों की मौतों की जाँच का आह्वान किया है, जिनकी मौत, कथित रूप से, प्राकृतिक कारणों से हो गई थी।

फिलीपिन्स के एक काथलिक धर्माध्यक्ष तथा फिलीपिन्स के विदेशी कर्मचारी संगठन ने साऊदी अरब में 350 से अधिक प्रवासियों की हालिया मौतों के पीछे सच्चाई की मांग की है।

सऊदी अरब में फिलीपीन्स के राजदूत अदनान अलोंटो ने 22 जून को एक साक्षात्कार में कहा था कि फिलिपिनो श्रमिकों की कम से कम 353 लाशें थीं, जिनमें से 200 को फिलीपींस वापस लाने की जरूरत थी। उन्होंने कहा, अधिकांश मौतें प्राकृतिक कारणों से हुई थी, जबकि कुछ मौतें  कोरोनावायरस से संबंधित हैं।  

धर्माध्यक्ष सान्तोस

फिलीपिन्स के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के आप्रवासी सम्बन्धी आयोग के अध्यक्ष धर्माध्यक्ष रुपेर्तोस सान्तोस ने मौतों के प्राकृतिक होने पर सन्देह व्यक्त किया है। उनकी आशंका है कि "पूरी तस्वीर में कुछ न कुछ गड़बड़ी है", इसलिये मध्य पूर्व में फिलिपिनो श्रमिकों के अधिकारों की सुरक्षा हेतु सरकार द्वारा तत्काल ध्यान देने की नितान्त आवश्यकता है।

धर्माध्यक्ष सान्तोस ने एक बयान में कहा,  "भविष्य में जीवन की क्षति को रोकने के लिये मृत्यु के विशिष्ट कारणों की जाँच बहुत ज़रूरी है।"

मिगरान्ते इनटरनेशनल

विदेशों में कार्यरत फिलीपिनो श्रमिकों के अधिकारों के लिये संघर्षरत "मिगरान्ते इनटरनेशनल" संगठन ने भी साऊदी अरब स्थित राजदूतावास से मौतों पर पारदर्शी रिपोर्ट का मांग की है।

ऊका न्यूज़ से संगठन के प्रवक्ता फ्रान्सिसको बोनावेनतूरा ने कहा, "हमारे मृत फिलिपिनो श्रमिकों के रिश्तेदारों को उनके प्रियजनों की मृत्यु का कारण जानने का पूरा अधिकार है। सरकार यह नहीं कह सकती कि प्राकृतिक कारणों से उनकी मृत्यु हुई है। इस दावे का समर्थन करने के लिए मेडिकल रिकॉर्ड होना ज़रूरी है।"

भेदभाव

बोनावेनतूरा ने मध्य पूर्व के अस्पतालों और स्वास्थ्य सुविधाओं में फिलिपिनो चिकित्सा कर्मचारियों के खिलाफ कथित भेदभाव का भी ज़्रिक किया। उन्होंने कहा कि उन्हें रिपोर्ट मिली है कि कोविद -19 संक्रमित फिलिपिनो नागरिकों को उनके धार्मिक जुड़ाव के कारण प्राथमिकता नहीं दी गई थी।

उन्होंने कहा, " ईसाइयों और मुसलमानों को वायरस से उबरने के लिये समान चिकित्सा मिलनी चाहिये तथा फिलीपिनो मरीज़ों पर भी उसी प्रकार ध्यान दिया जाना चाहिये जिस प्रकार अन्य मरीज़ों पर दिया जाता है।" उन्होंने कहा, "हमारी नर्सें मुस्लिम रोगियों की देखभाल कर रही हैं, इसलिये हमारी आशा है कि उन्हें भी वैसा ही चिकित्सकीय ध्यान मिले जिसके वे हकदार हैं।"

26 June 2020, 11:00