खोज

Vatican News
नैरोबी में कोरोना वायरस परीक्षण के लिए लाईन में खड़े केन्या वासी नैरोबी में कोरोना वायरस परीक्षण के लिए लाईन में खड़े केन्या वासी 

केन्या में कोरोना से निपटने के लिए सलाहकार केंद्र की स्थापना

केन्या के नेयरी महाधर्मप्रांत ने कोरोना महामारी से प्रभावित लोगों की मदद हेतु परामर्श केंद्र की शुरुआत की है। यहाँ उन्हें मनोवैज्ञानिक सलाह और मदद मिलती है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

नेयरी केन्या, सोमवार 15 जून 2020 (वाटिकन न्यूज) : कोरोना वायरस महामारी के परिणामों से निपटने के लिए केन्या के नेयरी महाधर्मप्रांत ने "गुड शेफर्ड" नामक सलाहकार और सहायता केंद्र की स्थापना की है। इस पहल का उद्देश्य विशेष रूप से स्वास्थ्य संकट से सबसे ज्यादा पीड़ित लोगों और परिवारों को मानसिक-सामाजिक सहायता प्रदान करना है।

सेवा 24 घंटे उपलब्ध

9 अप्रैल को, महाधर्माध्यक्ष एंतोनी मुहेरिया की उपस्थिति में इस केंद्र का उद्घाटन किया गया। केंद्र के पास एक विशेष टोल-फ्री नंबर है, जिस पर जरुतमंद कॉल या एसएमएस भेज सकते हैं। महाधर्माध्यक्ष ने बताया कि नया केंद्र ‘गुड शेफर्ड’ वैवाहिक और पारिवारिक समस्याओं का सामना कर रहे सभी परिवारों को विवाह परामर्श सहित मनोवैज्ञानिक समर्थन प्रदान करेगा। इसमें सभी "आध्यात्मिक सहायता मांगने वालों का स्वागत है, चाहे वे किसी भी जाति या धर्म के हों। इस केंद्र में कुल मिलाकर, तीस पुरोहित और विशेषज्ञ उपलब्ध होंगे, जिनमें दस मनोवैज्ञानिक शामिल हैं, जो केंद्र में 24 घंटे उपलब्ध हैं, ताकि कठिनाई में लोगों की मदद की जा सके। कॉल सेंटर में कार्यरत अतिरिक्त स्वयंसेवी कर्मचारियों को एक गहन मनोवैज्ञानिक परामर्श पाठ्यक्रम के माध्यम से प्रशिक्षित किया गया था।

मीडिया के साथ तालमेल

महाधर्माध्यक्ष मुहेरिया ने बताया कि यह केंद्र स्थानीय अधिकारियों के साथ और बड़े पैमाने पर मीडिया के साथ तालमेल से काम करता है। जहां स्थिति सबसे अधिक जोखिम भरी होती है, तो वे पुलिस से मदद मांगते हैं। इसके अलावा, वे सामाजिक सूचना अभियान में भाग लेते हैं रेडियो मारिया सप्ताह में दो बार, मानसिक स्वास्थ्य और तनाव के कारणों पर एक कार्यक्रम प्रसारित करता है।

महाधर्माध्यक्ष ने बताया कि महामारी के समय लॉकडाउन में  घरेलू और लिंग आधारित हिंसा के मामले बढ़ गये हैं। "हिंसा किसी भी समस्या को हल नहीं करती है, इसके विपरीत यह इसे और बढ़ाता है। इस कारण से, वे पति-पत्नी को अपने बीच आपसी संबंध और संचार को मजबूत बनाए रखने का आग्रह करते हैं, चूंकि घरेलू हिंसा बच्चों को भी प्रभावित करती है।” महाधर्माध्यक्ष मुहरिया लोकधर्मियों की प्रेरितिक देखभाल हेतु बनी धर्माध्यक्षीय समिति के अध्यक्ष हैं  

15 June 2020, 14:41