खोज

Vatican News
जर्मनी का धर्माध्यक्षीय महासभा जर्मनी का धर्माध्यक्षीय महासभा   (ANSA)

महाद्वीपों के बीच मानव केंद्रित व जिम्मेदार साझेदारी

कोविद-19 महामारी के बीच, यूरोपीय धर्माध्यक्षीय संघ और अफ्रीकी धर्माध्यक्षीय संघ वर्तमान में अपने राजनीतिक नेताओं के 6वें शिखर सम्मेलन की तैयारी कर रहे हैं। इस दृष्टि से, सीओएमइसीइ और अफ्रीका और मडागास्कर धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (एसइसीएएम) के की संगोष्ठी ने भविष्य के यूरोपीय संघ-अफ्रीका साझेदारी पर एक संयुक्त योगदान दिया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बुधवार 10 जून 2020 (रेई) : ऐसे समय में जब दुनिया कोविद-19 महामारी और उसके विनाशकारी परिणामों की चपेट में आ गई है, यूरोपीय धर्माध्यक्षीय संघ (सीओएमइसीइ) के अध्यक्ष कार्डिनल जीन-क्लाउड होलेरिक एसजे और अफ्रीका और मडागास्कर धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (एसइसीएएम) के अध्यक्ष कार्डिनल फिलिप नकेरेलुबा ओउएद्रोगो ने विशेष रूप से उन दोनों महाद्वीपों पर संकट और कठिन स्थितियों में जीवन निर्वाह कर रहे लोगों, परिवारों और समुदायों के लिए अपनी चिंता को साझा करते हैं।

मानव गरिमा और सृजन की देखभाल

अक्टूबर 2020 यूरोपीय संघ-एयू शिखर सम्मेलन से पहले ब्रुसेल्स और अकरा में स्थित सचिवालय द्वारा तैयार किए गए एक संयुक्त योगदान में, सीओएमइसीइ और एसइसीएएम यूरोप और अफ्रीकी नीति-निर्माताओं को मानवीय गरिमा, जिम्मेदारी और एकजुटता के सिद्धांतों पर अपने तैयारी कार्य को उन्मुख करने के लिए प्रोत्साहित करते हैं। उन्होंने गरीबों के लिए बेहतर विकल्प पर जोर देने के साथ, सृजन की देखभाल और आम भलाई की खोज को भी प्रोत्साहित किया।

 दस्तावेज़ में परिचय में दोनों अध्यक्षों ने कहा, "हम दृढ़ता के साथ आश्वस्त हैं कि अफ्रीका और यूरोप बहुपक्षीय सहयोग के सुदृढ़ीकरण के लिए इंजन बन सकते हैं।"

न्याय, शांति और समृद्धि

संयुक्त योगदान के शुभारंभ पर टिप्पणी में कार्डिनल होलेरिक ने यूरोप और अफ्रीका के बीच आम जड़ों और भौगोलिक निकटता को याद किया और "पड़ोसियों के साथ शांति और समृद्धि को साझा करने के लिए यूरोप की जिम्मेदारी" पर प्रकाश डाला।

“न्याय फलता-फूलता रहेगा और हमेशा शांति बनी रहेगी” नामक दस्तावेज भी कई विशिष्ट नीतिगत सिफारिशें प्रदान करता है, जो अंतर-महाद्वीपीय राजनीतिक और आर्थिक संबंधों को एक समान और जिम्मेदार साझेदारी के लिए प्रेरित करता है और लोगों को अपने केंद्र में रखता है। इस संबंध में, यूरोपीय संघ और अफ्रीकी धर्माध्यक्ष समग्र मानव विकास, अभिन्न पारिस्थितिकी, मानव सुरक्षा एवं शांति की मांग करते हैं।

10 June 2020, 15:09