खोज

Vatican News
14 वर्षीय समरू मदकामी 14 वर्षीय समरू मदकामी  

ओडिशा में ईसाई किशोर की हत्या

ओडिशा के मलकानगिरि जिले के एक गाँव केंदुगुडा में भीड़ द्वारा तीन साल पहले ईसाई बने 14 वर्षीय समरू मदकामी की हत्या की गई। समरु मडकमी उनगा मडकामी का बेटा था, जो पादरी पुसरु के नेतृत्व में बेथेल हाउस चर्च में काम करता था।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मलकानगिरी, सोमवार 8 जून 2020 (मैटर्स इंडिया) : ʺओडिशा में 4 जून को एक किशोर ईसाई लड़के की हत्या, भारत में धार्मिक कट्टरपंथियों की भयावह और दागी मानसिकता को उजागर करती है।ʺ देश में ईसाइयों पर हमलों की निगरानी करने वाली ‘उत्पीड़न राहत’ एजेंसी के शिबू थोमस ने कहा।

ओडिशा के मलकानगिरि जिले के एक गाँव केंदुगुडा में भीड़ द्वारा 14 वर्षीय समरू मदकामी की हत्या की गई, थोमस ने स्थानीय पादरी बिजय पुसरु के हवाले से कहा।

हमलावरों ने तीन ईसाइयों का अपहरण करने की कोशिश की थी, लेकिन उनमें से दो, जो शारीरिक रूप से मजबूत थे, भीड़ से बचने में कामयाब रहे और एक पीछे छूट गया।

समरु मडकमी उनगा मडकामी का बेटा था, जो पादरी पुसरु के नेतृत्व में बेथेल हाउस चर्च में काम करता था।  बचपन में ही समरू ने अपनी माँ को खो दिया था और पिता ने उसे पाल-पोसकर बड़ा किया था।

5 जून को, पादरी पुसरु किशोर समरु मडकमी के बारे में शिकायत दर्ज करने के लिए मलकानगिरी पुलिस स्टेशन गया। थाना प्रभारी ने तीन पुलिस वाहनों को गांव के लिए रवाना किया। हालांकि पुलिस के पहुंचने तक संदिग्ध गायब हो गए थे परंतु पुलिस 5 जून की रात लगभग 9 बजे तक एक दर्जन संदिग्धों को गिरफ्तार करने में सफल रही। तब हमलावरों ने बताया कि कैसे उन्होंने लड़के के शरीर को टुकड़ों में काट दिया और घटनास्थल से भागने से पहले उसे दफन कर दिया, थॉमस ने स्थानीय पादरी के हवाले से कहा।

थॉमस के अनुसार, केंदुगुडा गांव में ईसाइयों को वर्षों से धार्मिक कट्टरपंथियों की धमकियों और उत्पीड़न का सामना करना पड़ रहा है। "इस साल की शुरुआत से ईसाइयों पर कई हमले हुए हैं," स्थानीय पादरी ने मलकानगिरी पुलिस स्टेशन में कम से कम चार शिकायतें दर्ज की थीं।

लड़का और उसके पिता तीन साल पहले ईसाई बन गए थे। तब से, उन्हें अपने पड़ोसियों और बाहर से कट्टरपंथियों के उत्पीड़न का सामना करना पड़ा। 3 जून को सुबह 11 बजे, कुछ ग्रामीणों ने लड़के को बताया कि उसे पास के जंगल में एक बैठक में भाग लेना है।

पिता को लेने के लिए गिरोह आधी रात को हथियारों से लैस होकर लौटा। लेकिन वह भागने में कामयाब रहा और शिकायत करने के लिए पुलिस स्टेशन गया। लड़के के परिवार, चर्च के सदस्य और पादरी अब शव को लेने के लिए मजिस्ट्रेट के आदेशों का इंतजार करते हैं।

थोमस कहते हैं कि ओडिशा किशोर की हत्या पिछले चार वर्षों में 1,500 से अधिक ईसाई-विरोधी मामलों में "सबसे हिंसक" थी। ʺधार्मिक कट्टरपंथियों के मन में घृणा और आक्रामकता और इस अपराध की क्रूर प्रकृति मुझे बेजबान बना देती है। इस तरह की "शातिर क्रूरता" धार्मिक कट्टरपंथियों की "कलंकित मानसिकता" को उजागर करती है, जिसे मैं "भयावह" और "नए अमानवीय रवैया" मानता हूँ।ʺ

 2019 में, राज्य में ईसाई उत्पीड़न के 22 मामले देखे गए, और इस वर्ष आठ मामलों में किशोर की हत्या भी शामिल है।

थोमस के अनुसार, ओडिशा भारत में ईसाईयों से शत्रुता रखने वाले राज्यों में 10 स्थान पर है।

08 June 2020, 11:29