खोज

Vatican News

पेपल महागिरजाघर दूसरे चरण की तैयारी में

रोम में महागिरजाघरों एवं संग्रहालयों को खोलने की तैयारी की जा रही है जिससे कि विश्वासियों को सुरक्षा की गारांटी दी जा सके।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 16 मई 2020 (रेई)- चार महागिरजाघरों जिन्हें पेपल महागिरजाघर भी कहा जाता है उनकी देखरेख करने वाले, उन आवश्यकताओं पर ध्यान दे रहे हैं ताकि विश्वासियों के लिए महागिरजाघरों के द्वारा खोले जा सकें जिससे कि वे धर्मविधिक अनुष्ठानों में पुनः भाग ले सकें।

वाटिकन प्रेस कार्यालय के निदेशक मात्तेओ ब्रनी ने बृहस्पतिवार को पत्रकारों को एक सूचना भेजकर इसकी जानकारी दी। संदेश में उन्होंने इस बात की पुष्टि दी थी कि पेपल महागिरजाघरों के प्रतिनिधियों ने बृहस्पतिवार को एक सभा में भाग लिया जिसका आयोजन वाटिकन राज्य सचिवालय द्वारा किया गया था।

सभा में उन्होंने दूसरे चरण के नये आयामों पर विचार किया, जिसमें इटली ने प्रवेश किया है। दूसरे चरण के रूप में, 18 मई से ख्रीस्तयाग समारोह मनाने हेतु कलीसिया को अपने विश्वासियों के लिए गिरजाघरों को खोलने की अनुमति मिली है।

सभा में विचार किये गये मुद्दों में "विश्वासियों को सुरक्षा की गारांटी देने हेतु सबसे आवश्यक उपायों को अपनाना प्रमुख है।"

मत्तेओ ब्रूनी ने पत्रकारों को प्रेषित जानकारी में यह भी कहा है कि मिस्सा में भाग लेने के इच्छुक विश्वासियों का थर्मोस्कैनर से तापमान चेक किया जाएगा।  

रोम के चार महागिरजाघर हैं- संत पेत्रुस महागिरजाघर, संत जॉन लातेरन महागिरजाघर, संत पौल महागिरजाघर और मरिया मेज्जर महागिरजाघर।  वाटिकन न्यूज के वरिष्ट पत्रकार मस्सीमिलियनो मनिकेत्ती ने बतलाया कि संत जॉन लातेरन महागिरजाघर एवं संत पौल महागिरजाघर को 15 मई को ही सनिटाईज कर तैयार किया गया जबकि संत पेत्रुस महागिरजाघर को 16 मई को तैयार किया गया।

संत पेत्रुस महागिरजाघर
संत पेत्रुस महागिरजाघर

 

16 May 2020, 15:11