खोज

Vatican News
भारत के विशाखापटनम में एलजी पोलीमेर्स में गैस लीक भारत के विशाखापटनम में एलजी पोलीमेर्स में गैस लीक 

जहरीली गैस के रिसाव के बाद स्थिति सामान्य किन्तु चिंता भी

काथलिक अधिकारियों के अनुसार, दक्षिणी भारत के उस इलाके में जीवन सामान्य हो रहा है, जहां पिछले हफ्ते एक जहरीली गैस के रिसाव ने 11 लोगों की जान ले ली थी, लेकिन लोगों की सुरक्षा को लेकर चिंता बनी हुई है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

7 मई को विशाखापत्तनम शहर में दक्षिण कोरियाई के स्वामित्व वाले एलजी पॉलिमर प्लास्टिक निर्माण संयंत्र से जहरीली स्टाइलिन गैस लीक होने के बाद 30 काथलिक सहित करीब 250 लोगों को अस्पताल में भर्ती कराया गया था।

विशाखापटम के महाधर्माध्यक्ष प्रकाश माल्लावारापू जिनके धर्मप्रदेश में आंध्रप्रदेश राज्य का आपदा क्षेत्र आता है उन्होंने ऊका न्यूज को बताया, "सबसे प्रभावित क्षेत्र में लोगों में अपनी सुरक्षा को लेकर भय है अतः उन्हें अपने घरों में वापस लौटने में कुछ वक्त लगेगा।" उन्होंने कहा कि सरकार को उन्हें आश्वस्त करना चाहिए कि वे अपने घरों में सुरक्षित रह पायें।

संत थॉमस पल्ली के पल्ली पुरोहित फादर बालशोर्री ने कहा, "रिसाव सुबह करीब 2.30 बजे हुई जब लोग सो रहे थे। कई लोग सांस लेने में कठिनाई होने पर जाग गये और नहीं जान रहे थे कि वास्तव में क्या हुआ था।"

मरनेवालों में अधिकतर लोग फैक्टरी से आधा किलोमीटर की दूरी पर रहने वाले हैं। हालांकि, पाँच किलोमीटर के अंदर आनेवाले, सांस लेने में तकलीफ महसूस कर रहे हैं, उन्हें सिर दर्द एवं चक्र महसूस हो रहा है किन्तु अस्पताल से किसी की मृत्यु होने की खबर नहीं है।

फादर के कुछ पल्लीवासी उभरते कोहरे जैसी जहरीली गैस से अपनी जान बचाने के लिए कम से कम 10 किलोमीटर की दूरी तक भागे।"

अधिकतर पल्लीवासियों ने अपनी पल्ली के गिरजाघर में शरण लिया जो फैक्ट्री से तीन किलोमीटर की दूरी पर है। गिरजाघर के क्षेत्र में गैस के रिसाव का प्रभाव अधिक नहीं था, हालांकि इसकी गंभीरता की शिकायतें पांच किलोमीटर दूर से भी आईं।

अधिकारियों ने कारखाने के आसपास के पांच गांवों के लोगों को सुरक्षित स्थानों पर स्थानांतरित कर दिया है। काथलिक परिवारों सहित कई, सुरक्षा के लिए अपने रिश्तेदारों के घरों में चले गए हैं। अधिकारियों द्वारा गैस के प्रभाव को कम करने के बाद काथलिक चर्च में शरण लेने वाले काथलिक अपने घरों को लौट गए हैं।

एलजी पॉलिमर फैक्ट्री, जो 1961 में शुरू हुई, पॉलीस्टाइन का निर्माण करती है, एक बहुमुखी प्लास्टिक है जिसका उपयोग खिलौने और उपकरणों जैसे विभिन्न प्रकार के उपभोक्ता उत्पादों को बनाने के लिए किया जाता है।

12 May 2020, 17:03