खोज

Vatican News
मांडर शेल्टर होम में प्रवासियों की जाँच करती संत अन्ना की धर्मबहनें मांडर शेल्टर होम में प्रवासियों की जाँच करती संत अन्ना की धर्मबहनें 

प्रवासियों का स्वागत कर निःस्वार्थ सेवा का परिचय दिया कलीसिया ने

प्रवासियों का दूसरा दल 5 अप्रैल को राँची के मांडर में संत अन्ना की धर्मबहनों द्वारा संचालित शेल्टर होम पहुँचा। शेल्टर होम में प्रवासियों का स्वागत करते हुए धर्मबहनों ने उनके स्वास्थ्य की जाँच की तथा उन्हें खाने-पीने एवं रहने की सुविधाएँ प्रदान कीं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

झारखंड, बुधवार, 6 मई 2020 (वीएन हिन्दी)- मांडर स्थित संत अन्ना शेल्टर होम राँची महाधर्मप्रांत के मार्गदर्शन में चलाये जा रहे 14 शेल्टर होम में से एक है, जिसको स्कूल घर में स्थापित किया गया है। संत अन्ना की पुत्रियों के धर्मसंघ राँची की मदर जेनेरल सिस्टर लिण्डा मेरी वॉन ने शेल्टर होम का दौर कर स्थिति का जायजा लिया।

उन्होंने जानकारी देते हुए कहा, "कल रात दूसरा दल हमारा केंद्र पहुँचा। उन्होंने कल 5.00 बजे सुबह गौंदली पोखर से पैदल यात्रा शुरू की थी और शाम 8.30 बजे मांडर पहुँचे। मांडर ब्लोक के बी. डी. ओ. और सी. ई. ओ. ने उन्हें हमारी धर्म बहनों को सौंप दिया। उन्हें लातेहार जाना है। दल में दो महिलाएँ, एक पुरूष, एक युवक, एक युवती एवं एक बच्ची हैं। वे बहुत थक चुके हैं और पैर दर्द के कारण आगे नहीं चल पा रहे थे। एक महिला जिसके पैर में बहुत दर्द था उसे चिकित्सा के लिए अस्पताल लिया गया है।"

मदर जेनेरल ने धर्मबहनों को प्रोत्साहन दिया कि वे निःस्वार्थ भाव से सेवा देती रहें।

विदित हो कि इस शेल्टर होम में 30 अप्रैल को 17 प्रवासियों के पहले दल का स्वागत किया गया था। वे सभी छत्तीसगढ़ के हैं जो रंगामाटी से राँची होते हुए अपने घर लौट रहे थे।

झारखंड के वित्तमंत्री श्री रमेश्वर उराँव ने 4 मई को राँची आर्चविशप हाउस जाकर झारखंड में राँची की कलीसिया द्वारा मानवीय सहायता के सराहनीय कार्यों के लिए अपना आभार प्रकट किया।

इस अवसर पर राँची के धर्माध्यक्ष थेओदोर ने कहा था कि लोगों की निःस्वार्थ सेवा एवं गरीबों की मदद करना कलीसिया की बुलाहट है।

Photogallery

मांडर के संत अन्ना शेल्टर होम में प्रवासी
06 May 2020, 14:49