खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर 

वियतनाम के काथलिकों ने कोरोना वायरस के अंत के लिए प्रार्थना की

वियतनाम के करीब 1,05,000 काथलिक कोरोना वायरस महामारी की समाप्ति के लिए प्रार्थना कर रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वियतनाम, मंगलवार, 28 अप्रैल 2020 (वीएन)- वियतनाम के हजारों काथलिकों ने रविवार को ऑनलाईन मिस्सा समारोह में भाग लिया। उन्होंने माता मरियम से देश एवं विश्व में कोरोना वायरस महामारी के अंत के लिए प्रार्थना की।

हुए के महाधर्माध्यक्ष जोसेफ नंगुएन की लिन्ह ने वियतनाम के राष्ट्रीय मरियम तीर्थ ला वंग में 10 पुरोहितों के साथ ख्रीस्तयाग अर्पित किया।

महाधर्माध्यक्ष लिन्ह ने कहा, "संकट का सामना नहीं कर सकने की अपनी असमर्थता के साथ, आज हम यहाँ ला वंग की हमारी माता मरियम के पास आते हैं कि वे कोविड-19 महामारी से हमारी रक्षा करें।"  

कोविड-19 वायरस के कारण विएतनाम के सभी गिरजाघर बंद कर दिये गये हैं। विश्वासी यू ट्यूब और हुए महाधर्मप्रांत के वेबसाईट के माध्यम से मिस्सा में भाग ले रहे हैं।

कोरोना वायरस का प्रभाव

ख्रीस्तयाग के दौरान महाधर्माध्यक्ष ने याद किया कि कोरोना वायरस महामारी ने विश्व को ऐसी परिस्थिति में डाल दिया है जिसमें प्रतिदिन हजारों लोग मर रहे हैं। संकट के लिए लोग एक-दूसरों को दोष दे रहे हैं।

माता मरियम से प्रार्थना

महाधर्माध्यक्ष ने ला वंग की माता मरियम को फूलों को एक गुलदस्ता एवं धूप चढ़ाया। उसके बाद उन्होंने विश्वासियों का आह्वान किया कि वे माता मरियम से एक साथ प्रार्थना करें।

महाधर्माध्यक्ष ने प्रार्थना की कि "हम अपने पूर्वजों के समान यहाँ शांति की महारानी को अपना जीवन अर्पित करते हैं जिन्होंने अतीत में अपना जीवन एवं सब कुछ अर्पित किया था। आप हमारे देश, कलीसिया एवं विश्व को शांति में बनाये रखिये।"

उन्होंने इसके बाद परिवारों के लिए प्रार्थना की जिन्होंने विवाह किया है और आर्थिक समस्याओं से जूझ रहे हैं, युवा सार्वजनिक हित के लिए कार्य कर सकें और काथलिक विश्वासी जरूरतमंद लोगों की मदद कर सकें।  

कोरोना वायरस

यद्यपि वियनाम, दूसरे देशों के समान बुरी तरह प्रभावित नहीं हुआ है किन्तु खतरा अब भी है कि महामारी बढ़ सकती है। वियतनाम सरकार ने कोविड-19 के प्रसार को रोकने के लिए उपाय भी अपनाये हैं। देश में कोरोना वायरस संक्रमण के इस समय 270 मामले दर्ज किये गये हैं जिसमें 225 लोग स्वस्थ हो चुके हैं और किसी की मौत नहीं हुई है।

28 April 2020, 17:18