खोज

Vatican News
बगदाद जवारा पार्क बगदाद जवारा पार्क  (ANSA)

कोविद -19: बगदाद के पुरोहितों ने दिया गरीबों को अपना मानदेय

इराक की राजधानी बगदाद में पल्ली पुरोहितों ने कोविद -19 महामारी से प्रभावित गरीबों को अपना वेतन दान करने का निर्णय किया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

बगदाद, सोमवार 27 अप्रैल 2020 (वाटिकन न्यूज) : बगदाद में पल्ली पुरोहितों ने कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित लोगों और गरीबों को अपना वेतन दान करने का निर्णय किया है।

उनका योगदान लगभग 25 मिलियन इराकी दीनार होगा जिसमें 90,000 अमेरिकी डॉलर भी सम्मिलित किया जाएगा जो खलदेई प्राधिधर्माध्यक्ष द्वारा कोरोना वायरस महामारी से प्रभावित लोगों और गरीबों के बीच आवंटित करने हेतु दिया गया था।

शुक्रवार शाम को कार्डिनल लुइस राफेल साको, बगदाद के महाधर्माध्यक्ष और इराक के खलदेई कलीसिया के प्राधिधर्माध्यक्ष और सहायक धर्माध्यक्ष शेमोन वार्डुनी, धर्माध्यक्ष बासिल यलदो और पल्ली पुरोहितों  के बीच एक बैठक के अंत में यह निर्णय लिया गया।

नाजुक सामाजिक-आर्थिक स्थिति

कोविद -19 महामारी फरवरी के अंत में इराक में प्रवेश किया, जब देश में सरकार के विरुद्ध बड़े जोर शोर से प्रदर्शन चल रहा था। यह प्रदर्शन अक्टूबर 2019 में ही शुरू हुआ था।

तेल की कीमतों में भारी गिरावट और एक दशक से अधिक समय से इराक को कमज़ोर कर देने वाले सुरक्षा और राजनीतिक मुद्दों के साथ, अर्थव्यवस्था पर तालाबंदी के विनाशकारी आर्थिक परिणामों ने देश के लोगों को बहुत दुःख सहने के लिए मजबूर कर दिया है।  

महामारी से उत्पन्न मौजूदा स्थिति और एहतियाती उपायों पर चर्चा करते हुए, प्राधिधर्माध्यक्ष ने कलीसियाओं में सामाजिक भेद का सम्मान करने और सरकार के स्वास्थ्य निर्देशों और महामारी के प्रसार का मुकाबला करने के लिए लॉकडाउन को बरकरार रखने की आवश्यकता को दोहराया।

इसके लिए, पल्लियों में सभी सामूहिक गतिविधियों को आगे की सूचना तक निलंबित रखा जाता है, जिसमें धर्मशिक्षा और युवाओं के कार्यक्रम शामिल हैं।

कार्डिनल साको ने यह भी उल्लेख किया कि खलदेई कलीसिया ने विश्वासियों के साथ संपर्क रखने के लिए इंटरनेट और सोशल मीडिया का उपयोग किया है।

गरीबों के प्रति निकटता

प्रधिधर्माध्यक्ष ने सबसे गरीब और जरूरतमंद परिवारों के लिए कलीसिया की प्रतिबद्धता और निकटता की पुष्टि की। उन्होंने कहा कि "इस ऐतिहासिक और कठिन समय में, सभी इराकियों को अपने व्यक्तिगत संघर्षों और हितों को अलग रखते हुए आम दुश्मन के खिलाफ कार्रवाई और एकजुटता को साझा करनी चाहिए "जो जीवन, अर्थव्यवस्था और सामाजिक एवं धार्मिक संबंधों के लिए खतरा है।

आधिकारिक आंकड़ों के अनुसार, इराक में 83 मौतों के साथ नए कोरोना वायरस के लगभग 1,800 मामले हैं।

27 April 2020, 17:03