खोज

Vatican News
भारत के स्वास्थ्य कर्मी भारत के स्वास्थ्य कर्मी  (AFP or licensors)

चिकित्सा कर्मियों पर हमले की सजा के नए कानून का स्वागत

भारत में, स्वास्थ्य कार्यकर्ता पर कुयी गया उत्पीड़न या हिंसा अब दंडनीय अपराध है। अपराधी को भारी जुर्माना और जेल की सजा होगी। यह कोरोनोवायरस के खिलाफ फ्रंट लाइन में लगे डॉक्टरों और नर्सों की सुरक्षा के लिए संघीय सरकार द्वारा 22 अप्रैल को अनुमोदित संशोधन है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

नई दिल्ली, सोमवार 27 अप्रैल 2020 (वाटिकन न्यूज) : भारत में, किसी भी हिंसा या स्वास्थ्य कार्यकर्ता का उत्पीड़न अब दंडनीय अपराध है। कोरोना वायरस के खिलाफ फ्रंट लाइन में लगे डॉक्टरों और नर्सों के हमलावरों को अधिकतम सात साल की जेल और 100,000 से लेकर 500,0000 रुपये तक जुर्माना के साथ दंडित किया जाएगा। स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं को उनकी संपत्तियों के खिलाफ किसी भी क्षति के लिए मुआवजा दिया जाएगा।

 नये कानून का स्वागत

भारतीय धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के स्वास्थ्य आयोग के अध्यक्ष, महाधर्माध्यक्ष प्रकाश मल्लावरप्पू ने इस नये कानून का स्वागत किया है, "इस मुश्किल क्षण में यह आवश्यक था, क्योंकि कुछ राज्यों में डॉक्टरों पर हमलो की खबरें हैं, जो अस्वीकार्य हैं। नया कानून उनके जोखिम को कम करेगा। इस आपात स्थिति में, हमें महामारी से बचाने के लिए कोरोना वायरस 'योद्धा' स्वर्गदूतों की तरह हैं जो अपनी जान और अपने परिवार के सदस्यों को खतरे में डालते हैं। " बैंगलोर में संत जॉन नेशनल एकाडेमी ऑफ हेल्थ साइंसेज के निदेशक फादर पॉल वी. परताजम के ने भी नये कानून को बहुत ही उपयुक्त कहा है, “स्वास्थ्य कार्यकर्ता इस आपातकाल में बहुत शारीरिक और मानसिक तनाव में हैं जो अपने काम से समझौता कर सकते हैं और यह उन्हें राहत देगा। "

स्वास्थ्य कर्मियों पर हमले

भारत में स्वास्थ्य कर्मियों पर हमले हाल के हफ्तों में कई गुना बढ़ गए हैं, इस बात पर कि डॉक्टरों और नर्सों ने विरोध प्रदर्शन की धमकी दी है। पहला हमला मध्य प्रदेश के इंदौर में अप्रैल की शुरुआत में हुआ था, लेकिन गुजरात, कर्नाटक और उत्तर प्रदेश में भी हिंसा की खबर है।

27 April 2020, 16:54