खोज

Vatican News
कोरोना वायरस की रोकथान हेतु गिरजाघर के बाहर ख्रीस्तयाग समारोह, तस्वीरः 08.03.2020 कोरोना वायरस की रोकथान हेतु गिरजाघर के बाहर ख्रीस्तयाग समारोह, तस्वीरः 08.03.2020 

इतालवी धर्माध्यक्षीय सम्मेलन की प्रेस विज्ञप्ति

इटली में तीव्र गति से फैलते केरोना वायरस की पृष्ठभूमि में इटली के काथलिक धर्माध्यक्षों ने सबसे प्रार्थना एवं एकत्मता का आह्वान किया है।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन सिटी

रोम, शुक्रवार, 13 मार्च 2020 (रेई,वाटिकन रेडियो): इटली में तीव्र गति से फैलते केरोना वायरस की पृष्ठभूमि में इटली के काथलिक धर्माध्यक्षों ने सबसे प्रार्थना एवं एकत्मता का आह्वान किया है।

धरती एवं स्वर्ग की कलीसिया शीर्षक से गुरुवार को एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर इताली काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने कहा, हम एक बहुत ही गंभीर स्वास्थ्य स्थिति में जी रहे हैं – अस्पतालों में लोगों की भीड़, स्वास्थ्य कार्यकर्ताओं के सामने लगी कतारें और साथ ही आर्थिक रूप से, पूरे देश के समस्त परिवारों पर पड़नेवाले भारी दुष्परिणाम।

नियम, वास्तविकता का प्रतिनिधित्व

धर्माध्यक्षों ने कहा कि इस परिस्थिति में सरकार द्वारा लागू नियम एक वास्तविकता का प्रतिनिधित्व करते हैं तथा प्रत्येक नागरिक से ज़िम्मेदाराना व्यवहार की मांग करते हैं। सन्त पापा फ्राँसिस के निवेदन को दुहराते हुए इतालवी धर्माध्यक्षों ने सभी से प्रार्थना का आग्रह किया। सन्त पापा के शब्दों को उद्धृत कर विज्ञप्ति में उन्होंने लिखा, “सबसे पहले मैं आपको अधिकारियों के लिये प्रार्थना हेतु आमंत्रित करता हूँ: उन्हें निर्णय लेना है और कई बार ऐसे उपायों पर निर्णय लेना है जो लोगों को पसंद नहीं हैं। तथापि, यह हमारी भलाई के लिये है। कई बार प्रशासन ख़ुद को अकेला महसूस करता है। हम अपने शासकों के लिए प्रार्थना करें जिन्हें इन उपायों पर निर्णय लेने हैं। उन्हें ऐसा महसूस हो कि जनता उनके साथ है, जनता की प्रार्थनाएँ उनके साथ हैं।”

कलीसिया लोगों के समीप

धर्माध्यक्षों ने आश्वासन दिया कि इस कठिन परिस्थिति में कलीसिया अपने सभी धर्माध्यक्षों, पुरोहितों एवं कार्यकर्त्ताओं सहित लोगों के निकट है तथा सभी की चिन्ताओं एवं उत्कंठाओं में उसकी साझेदारी है। कलीसिया अपनी प्रार्थना में लोगों के साथ है तथा सभी से प्रार्थना को सघन करने का अनुरोध करती है।

उन्होंने इस तथ्य की ओर ध्यान आकर्षित कराया कि अपने उदार एवं कल्याणकारी कार्यों को कारितास आदि संस्थाओं के माध्यम से जारी रखते हुए कलीसिया लोगों के साथ है, उसकी एकात्मता सभी के प्रति बरकरार है। साथ ही कलीसिया सबसे आग्रह करती है कि वे सरकार द्वारा इन दिनों के लिये घोषित नियमों का पालन करें ताकि खुद को एवं अन्यों को किसी भी प्रकार के ख़तरे का सामना न करना पड़े। उन्होंने कहा कि यह इस समय की एक महान ज़िम्मेदारी है जिसका निर्वाह हम सबका दायित्व है।

धर्माध्यक्षों ने कहा कि 25 मार्च और तीन अप्रैल तक निर्धारित इस कठिन अवधि में हालांकि गिरजाघर बन्द रहेंगे तथापि, काथलिक पुरोहित, स्वास्थ्य नियमों का पालन करते हुए, यूखारिस्तीय आराधना एवं पवित्र ख्रीस्तयाग अर्पण को जारी रखेंगे, मठवासी एवं धर्मसंघी अपने अपने समुदायों प्रार्थना करेंगे तथा आध्यात्मिक रूप से अपने सभी भाइयों एवं बहनों के संग रहेंगे।  

13 March 2020, 11:29