खोज

Vatican News
लूर्द तीर्थालय लूर्द तीर्थालय   (AFP or licensors)

कोरोना वायरस: लूर्द तीर्थालय अस्थायी रूप से बंद

लूर्द की माता मरिया तीर्थालय के रेक्टर, मोनसिन्योर रिबादेउ डुमास ने कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने हेतु 17 मार्च से तीर्थालय को एहतियाती बंद रखने की घोषणा की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

लूर्द, बुधवार 18 मार्च 2020 (वाटिकन न्यूज) : फ्रांस में लूर्द की माता मरिया तीर्थालय को खोलने के बाद पहली बार 17 मार्च से अस्थायी रूप से द्वार बंद रहेगा। देश में कोरोना वायरस के प्रसार को रोकने के लिए फ्रांसीसी सरकार द्वारा किए गए उपायों के पालन के तहत इसे बंद किया जा रहा है। फ्रांस में कोरोनो वायरस संक्रमण के 6500 से अधिक मामले हैं। तीर्थालय की वेबसाइट ने पहले ही 28 फरवरी को घोषणा की थी कि "एहतियात के तौर पर, जल कुंडों को अगली सूचना तक बंद कर दिया गया है।"

तीर्थालय के रेक्टर मोनसिन्योर रिबादेउ डुमास ने ट्विटर पर प्रकाशित एक संदेश के माध्यम से यह घोषणा की, "अपने इतिहास में पहली बार, तीर्थालय कुछ समय के लिए अपने दरवाजे बंद कर देगा।"

प्रार्थना का स्थान

इस घोषणा से पहले, 12 मार्च को राज्य के पर्यटन सचिव, जोन-बैप्टिस्ट लेमोयेन के साथ हुए बैठक के बाद एक साक्षात्कार में, मोन्सिन्योर डुमास ने जोर देकर कहा कि इस कठिन समय में भी तीर्थालय "प्रार्थना का स्थान" बना रहेगा। उन्होंने विश्वासियों से प्रार्थना के निवेदनों को भेजने के लिए आमंत्रित किया।

उन्होंने कहा कि अस्थायी बंद होने के बावजूद, तीर्थालय की सेवा में समर्पित 30 पुरोहित आज याने 17 मार्च से माता मरिया की मध्यस्ता से दुनिया के लिए एक विशेष नोबीना प्रार्थना शुरू करेंगे। लूर्द टीवी और तीर्थालय के वेबसाइट पर इसका सीधा प्रसारण किया जाएगा।

लूर्द तीर्थालय

1858 में माता मरियम, संत बेर्नादेत सोबिरस (1844-1879) को लूर्द में अठारह बार दर्शन दीं। दर्शनीय स्थल को जल्दी ही प्रार्थना और स्वस्थ होने का पवित्र स्थान के रूप में मान्यता दी गई। यहाँ प्रतिवर्ष लगभग 6 मिलियन तीर्थयात्री प्रार्थना करने आते हैं। संत पापा बेनेडिक्ट सोलहवें ने सितम्बर 2008 में लूर्द की 150वीं वर्षगांठ के अवसर पर दौरा किया। उसके ठीक 4 साल पहले, उनके पूर्ववर्ती संत पापा जॉन पॉल द्वितीय ने अपने जीवन के अंतिम वर्षों के दौरान तीर्थालय का दौरा किया था।

18 March 2020, 15:12