खोज

Vatican News
कोरोना वायरस से बचने के लिए वियतनाम में मास्क लगाकर घूमते लोग कोरोना वायरस से बचने के लिए वियतनाम में मास्क लगाकर घूमते लोग   (AFP or licensors)

कोरोना वायरस पर धर्माध्यक्षों की प्रार्थना व एकात्मता की अपील

वियतनाम के धर्माध्यक्षों ने कोरोना वायरस महामारी का सामना करने के लिए विश्वासियों से प्रार्थना और ख्रीस्तीय एकात्मता का आह्वान किया है। कोरोना वायरस के कारण मरने वालों की संख्या बढ़ती जा रही है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वियतनाम, मंगलवार, 11 फरवरी 2020 (रेई)˸ हा तिम्ह के धर्माध्यक्ष नगुयेन थाई होप ने कहा है कि "वियतनाम के काथलिक इस कठिन समय में महान ख्रीस्तीय प्रेम प्रकट करें।" उन्होंने काथलिकों से अपील की है कि रोग फैलने से रोकने के लिए अधिकारियों एवं कलीसिया द्वारा दिए गये निर्देश को वे गंभीरता से लें, विशेषकर, सर्दी-खांसी होने पर सार्वजनिक स्थलों पर न जाएँ, पापस्वीकार संस्कार के समय मास्क का प्रयोग करें, किन्तु एक-दूसरे के बीच दहशत भी न फैलाएँ। उन्होंने इस बात को भी रेखांकित किया कि वायरस के प्रभावित अथवा प्रभावित होने के संदिग्ध लक्षण या प्रभावित क्षेत्र से आने वाले लोगों के साथ भेदभाव नहीं किया जाना चाहिए बल्कि उन्हें भी प्यार और सम्मान दिया जाना चाहिए। वियतनाम में अबतक 14 लोगों के प्रभावित होने की जानकारी मिली है जिनमें से 6 स्वस्थ हो चुके हैं।     

वियतनाम के धर्माध्यक्षों ने काथलिकों को चेतावनी दी है कि वर्तमान के इस स्वास्थ्य संकट को निजी लाभ का साधन न माना जाए। वास्तव में, कुछ ऐसे लोग हैं जो दवाओं एवं मास्क का भण्डारीकरण करते हैं ताकि उन्हें उच्ची कीमत पर बेचा जा सके। 7 फरवरी को हो ची मिन्ह हवाई अड्डे पर 150,000 मास्क तैयार पाए गए थे, जबकि स्थानीय दवा दुकानों में इसकी आपूर्ति नहीं हो पा रही है।

महाधर्माध्यक्ष जोसेफ नगुयेन नैंग ने कहा, "हमें मानव समुदाय के लिए प्रार्थना करना चाहिए ताकि इस कठिन परिस्थिति में हम सभी से प्रेम एवं एक-दूसरे की मदद कर सके।" उन्होंने विश्व के नेताओं के लिए प्रार्थना करने की अपील की ताकि इस समस्या का हल निकाला जा सके।

9 जनवरी को विश्वासियों ने बीमारों एवं समस्या हल पाने के लिए विशेष नोविना प्रार्थना शुरू की।  

कोरोना वायरस महामारी के कारण परिवार को प्रोत्साहन देने हेतु 1981 में फिलीपींस में स्थापित ख्रीस्तीय संगठन, काथलिक लोकधर्मी आंदोलन के सम्मेलन को स्थागित कर दिया गया है जो इंडोनेशिया के जकार्ता में आयोजित किया गया था। सम्मेलन में करीब 1300 प्रतिनिधि जमा होने वाले थे।

11 February 2020, 16:48