खोज

Vatican News
कंधमाल कंधमाल 

कंधमाल हिंसा में अपना बेटा खोया, पर मसीह को नहीं छोड़ा

जिस गाँव में उग्लू सांदी माँझी रहते थे, हिंदू कट्टरपंथियों ने पूरे घर को जला दिया और गाँव से भगा दिया। उनके दो साल के बेटे की जंगल में भूख, प्यास और ठंड से मौत हो गई। कोटागढ़ के पल्ली परोहित के अनुसार, "कोई भी तलवार या शारीरिक खतरा उन्हें हमारे उद्धारक मसीह में विश्वास करने से नहीं रोक सकता।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कटक-भुवनेश्वर, शनिवार 8 फरवरी 2020 (एशिया न्यूज) - "मेरा बेटा मर चुका है, मेरा घर अब नहीं रहा क्योंकि मेरा गाँव नष्ट हो गया है, लेकिन मैं येसु मसीह में अपने विश्वास को अस्वीकार नहीं कर सकता," उग्लू सांदी माँझी ने एशियान्यूज़ से बातें करते हुए कहीं।

अगस्त 2008 में, ओडिशा (उड़ीसा) में हिन्दू कट्टरपंथियों द्वारा उनके गाँव पर हमला करने के बाद उग्लू ईसाई-विरोधी हिंसा से बच गया। उसने कहा, “मैं अपने परिवार के साथ जंगल में छिप गया। मेरा बेटा लोम्बु सांदी माझी दो साल का था। हम तीन दिनों तक बिना भोजन पानी के भटकते रहे। भारी बारिश शुरू हुई,  लेकिन हमारे पास कहीं जाने के लिए कोई जगह नहीं थी। मेरे बेटे की जंगल में ठंड, भूख और प्यास से मौत हो गई।”

उग्लू मूल रूप से कोटागढ़, कंधमाल जिले के गेरेट का रहने वाला है। गाँव में बारह ईसाई परिवार रहते थे, जिनमें से सभी भारत के इतिहास में सबसे खराब ईसाई-विरोधी हिंसा के दौरान भाग गए थे।

"घर में हमारे पास मौजूद अनाज, रसोई के बर्तन, कपड़े, फर्नीचर सहित सभी चीजों को लूटने के लिए अपराधी अपने साथ गाड़ी लाए थे। फिर उन्होंने पूरा सामान लूटने के बाद गांव को आग लगा दी। ”

हिंदू कट्टरपंथियों के गुस्से से सबसे ज्यादा कंधमाल प्रभावित हुआ था। स्वामी लक्ष्मणानंद सरस्वती के मारे जाने के बाद हिंसा भड़की। माओवादी विद्रोहियों द्वारा स्वामी लक्ष्मणानंद की हत्या  दावा किया गया, लेकिन ईसाइयों को दोषी ठहराया गया।

एक महीने तक चली हिंसा में, 120 लोग मारे गए, लगभग 56,000 ईसाई विस्थापित हुए, 4,000 गाँवों में 8,000 घर जलाए गए या लूटे गए, 300 गिरजाघर तोड़ दिए गए या जला दिये गये, 40 महिलाओं का बलात्कार हुआ और करीब 12,000 बच्चे स्कूल जाने में असमर्थ रहे।

कटक-भुवनेश्वर के महाधर्मप्रांत के विकर जनरल फादर प्रदोष चंद्र नायक ने कहा, “गेरेट के लोगों का विश्वास बहुत मजबूत है। अपने विश्वास को बचाने के लिए उन्हें जंगल में भागना पड़ा। ईसाई विरोधी हिंसा के दौरान अपने बेटे और संपत्ति को खोने के बावजूद, उग्लू येसु मसीह में विश्वास करता है।”

अपने अधिकारों के लिए लड़ना उनके लिए एक बड़ी चुनौती है। वे हिंसा, उनके प्रति अन्याय को दुर्भाग्य के रूप में स्वीकार करते आए हैं।

कोटागढ़ पल्ली के पल्ली पुरोहित फादर स्टीफन पंगोला इन साधारण लोगों के विश्वास की प्रशंसा करते हुए कहा, “कोई तलवार या शारीरिक खतरा उन्हें हमारे उद्धारक मसीह पर विश्वास करने से नहीं रोक सकता।”

इस बीच, जनवरी 2020 के अंत में भारत के सर्वोच्च न्यायालय ने कंधमाल नरसंहार के संबंध में "सांप्रदायिक हिंसा" के आरोपी 3,700 से अधिक लोगों को बरी कर दिया।

कटक-भुवनेश्वर के महाधर्माध्यक्ष जॉन बरवा ने कहा, “हमें कोई न्याय नहीं मिली। हमने हमेशा उम्मीद की और न्याय के लिए प्रार्थना की, ताकि अपराधियों को दंडित किया जा सके और और जिन लोगों का नुकसान हुआ था, उन्हें मुआवजा मिले।”

08 February 2020, 14:33