खोज

Vatican News
कारितास इंडिया का चालीसा अभियान कारितास इंडिया का चालीसा अभियान 

कारितास इंडिया द्वारा चालीसा अभियान

चालीसा काल जिसकी शुरूआत राखबुध से हुई जो पास्का पर्व की तैयारी, प्रार्थना, प्रायश्चित, उपवास, दान देने एवं दया के कार्यों द्वारा करने का समय है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

भारत, शनिवार, 29 फरवरी 2020 (वीएन)˸ भारत की काथलिक कलीसिया चालीसा के दौरान, जीवन का समर्थन करने और स्थायी आजीविका को बढ़ावा देने पर जोर देती है। काथलिक कलीसिया के उदार संगठन की भारतीय शाखा कारितास इंडिया, हर साल चालीसा काल में वार्षिक अभियान जारी करती है।

चालीसा काल की शुरूआत राखबुध के द्वारा 26 फरवरी को शुरू हुई। वाटिकन के लिए भारत के प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष जामबपतिस्ता दीक्वात्रो ने आधिकारिक रूप से 23 फरवरी को दिल्ली के पवित्र हृदय महागिरजाघर में आंदोलन का उद्घाटन किया।

भूखे और बीमार

इस साल के लिए चालीसा काल के अभियान की विषयवस्तु है, "जीवन का समर्थन, सतत् जीविका"। यह हरेक व्यक्ति की मदद करने के लिए उत्प्रेरक बनने के प्रयासों में शामिल होने के लिए आमंत्रित करता है।

कारितास इंडिया के महानिदेशक फादर पौल मूनजेली ने कहा कि इस विषयवस्तु को चुनने का कारण है भारत में महसूस की जा रही गरीबी। यह देश में बेरोजगारी एवं आपदा और आपात स्थिति के कारण समाज के कमजोर तबके के लोगों द्वारा महसूस किया जा रहा है जो उनकी जीविका एवं अवसर को छीन लेता तथा उन्हें अत्यन्त गरीबी की स्थिति में छोड़ देता है।  

फादर ने कहा कि अभियान का उद्देश्य ख्रीस्तीय महौल लाना और बांटने, देखभाल करने एवं एक-दूसरे की मदद करने की भावना उत्पन्न करना है। नबी इसायस का हवाला देते हुए उन्होंने कहा कि चालीसा काल का सच्चा अर्थ हमसे मांग करता है कि हम अपनी सम्पति गरीबों के साथ बांटें, हमारे वस्त्र एवं संसाधनों को उनके साथ साझा करें जो जरूरतमंद हैं।

धर्मप्रांतों एवं पल्लियों को शामिल करना

फादर पौल ने कहा कि अपने व्यापक नेटवर्क के माध्यम से कारितास इस चालीसा काल के अभियान को धर्मप्रांतों में ले जाने का इरादा रखता है। भारतीय काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने निश्चय किया है कि वह इस चालीसा अभियान को देश के सभी धर्मप्रांतों में 1 मार्च को जारी करेगा।  

चालीसा अभियान की सामग्री और पृष्ठभूमि की जानकारी सभी पल्लियों को भेजी गयी है। उन्होंने बतलाया कि कारितास के स्वयंसेवक हरेक धर्मप्रांत में सक्रिय हैं। वे स्थानीय स्तर पर अभियान का जानकारी फैला रहे हैं ताकि राष्ट्रीय कारितास के द्वारा गरीबों तक पहुँचा जा सके।

29 February 2020, 18:16