खोज

Vatican News
पनामा के धर्माध्यक्ष विश्व युवा दिवस के अवसर पर संत पापा फ्राँसिस के साथ एक सभा में पनामा के धर्माध्यक्ष विश्व युवा दिवस के अवसर पर संत पापा फ्राँसिस के साथ एक सभा में  (ANSA)

संविधान के संशोधन हेतु धर्माध्यक्षों ने की वार्ता की मांग

पनामा के काथलिक धर्माध्यक्षों ने संविधान के संशोधन के लिए वार्ता करने की अपील की है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

पनामा, शनिवार, 11 जनवरी 2020 (रेई)˸ 6 से 10 जनवरी को पनामा के धर्माध्यक्षों की आमसभा सम्पन्न हुई। सभा के अंत में उन्होंने एक प्रेस विज्ञप्ति जारी कर विभिन्न राष्ट्रीय महत्व के मुद्दों पर अपने विचार प्रकट किये।

उन्होंने कहा है कि जो लोग सामाजिक न्याय एवं देश के धन के उचित वितरण की मांग कर रहे हैं उनकी आवश्यकताओं का जवाब दिया जाना चाहिए। उन्हें आश्वस्त किया गया था कि "नागरिकों के लिए अशांति पैदा करने वाले प्रमुख मुद्दों पर बातचीत करना एक नैतिक अनिवार्यता है", जिसमें संवैधानिक सुधार भी शामिल है।  

विज्ञप्ति में, इस बात को रेखांकित किया गया है कि एक नया या संशोधित संविधान समाज की समस्याओं का समाधान नहीं कर सकता, अगर यह लोगों के आंतरिक परिवर्तन और दृष्टिकोण के साथ न हो। संशोधन पर विचार, किसी के व्यक्तिगत हितों को थोपने का अवसर न हो बल्कि आमहित हो।

देश में बढ़ती हिंसा पर चिंता व्यक्त करते हुए कहा गया है कि इस हिंसा का सामना समय के साथ और सही तरीके से नहीं की गयी है। हालांकि, धर्माध्यक्षों के लिए नये न्यायधीश की नियुक्ति देश में आशा की किरण के समान है। अतः वे उनसे न्याय में विश्वास बहाल करने का आग्रह करते हैं, जिसमें "प्रत्येक नागरिक के अधिकार और समानता का सम्मान किया जा सके।

22 से 27 जनवरी 2019 को पनामा में आयोजित विश्व युवा दिवस के एक साल बाद, धर्माध्यक्षों की आमसभा, स्थिति का जायजा लेने का अवसर था ताकि "पनामा 2020 को मनायें" कार्यक्रम को विस्तार से परिभाषित किया जा सके, जिसका आयोजन 31 जनवरी से 2 फरवरी तक चिंता कोसतेरा के मिरादोर देल पचिफिको में विश्व युवा दिवस के सालगिराह के तौर पर किया गया है। 23 से 26 जनवरी 2020 तक चित्तरे में भी राष्ट्रीय युवा नवीकरण सभा का आयोजन किया गया है जिसमें सभी विश्वासियों को आमंत्रित दिया गया है।

11 January 2020, 14:28