खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (AFP or licensors)

नया गर्भपात कानून अन्यायपूर्ण, उत्तरी आयरलैंड धर्माध्यक्ष

उत्तरी आयरलैंड के काथलिक धर्माध्यक्षों ने उत्तरी आयरलैंड अधिनियम 2019 के प्रावधानों के तहत स्थापित नए गर्भपात कानून को अन्यायपूर्ण बताया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वेस्टमिंस्टर, सोमवार 23 दिसम्बर 2019 (वाटिकन न्यूज) : उत्तरी आयरलैंड में गर्भपात प्रक्रिया के लिए एक नए कानूनी ढांचे पर परामर्श के जवाब में, धर्माध्यक्षों का कहना हैं कि "परिणाम के रूप में, "कोई भी इस कानून द्वारा स्वीकृत किसी भी कार्रवाई में सहयोग करने के लिए बाध्य नहीं है, जो सीधे और जानबूझकर एक अजन्मे बच्चे की हत्या की ओर जाता है।"

धर्माध्यक्षों का कहना है कि "हर कोई नैतिक रूप से इस कानून का विरोध करने के लिए बाध्य है।"

वेस्टमिंस्टर में सांसदों द्वारा जुलाई में कानून में बदलाव के लिए मतदान करने के बाद नया कानून लागू हुआ, इस तथ्य के कारण सोमवार 21 अक्टूबर तक स्ट्रोमोंट में उत्तरी आयरलैंड विधानसभा वापस नहीं लौटी।

जनवरी 2017 से कार्यकारिणी की सभा नहीं बुलाई गई है।

अब तक, गर्भपात की अनुमति केवल तभी थी जब किसी महिला का जीवन जोखिम में था या उसके शारीरिक या मानसिक स्वास्थ्य के लिए खतरा था।

उत्तरी आयरलैंड के धर्माध्यक्ष इस बात पर जोर देते हैं कि, "नए कानूनी ढांचे को अस्पतालों में काम करने वाले दाई, नर्स और सहायक कर्मचारियों सहित सभी स्वास्थ्य पेशेवरों को प्रदान करना चाहिए। उन्हें गर्भपात सेवाओं के किसी भी पहलू जैसे कि परामर्श, प्रशासन, तैयारी, प्रत्यक्ष और जानबूझकर गर्भपात के कार्य में भाग लेने से इनकार करने के अधिकार है।

वे यह भी कहते हैं कि "अस्पतालों में काम करने वाले फार्मासिस्ट को गर्भपात के लिए दवाइयों को उपलब्ध कराने या स्टॉक करने के लिए कहा जाता है, तो उन्हें विवेकपूर्ण आपत्ति प्रकट करने के लिए स्वतंत्र होना चाहिए।"

धर्माध्यक्षों ने कहा कि उनके विचार में, "12/14 सप्ताह तक अप्रतिबंधित पहुंच प्रदान करने का प्रस्ताव गर्भपात कराने की मांग को बढ़ा देगा।  

फादर माइकेल मैकगिनिटी परामर्श प्रतिक्रिया का प्रारुप तैयार करने में शामिल थे और वाटिकन न्यूज से कुछ प्रमुख मुद्दों के बारे में बात की थी, जिसमें कर्तव्यनिष्ठा आपत्ति भी शामिल थी।

23 December 2019, 17:15