खोज

Vatican News
केप टाऊन में तेजे तीर्थयात्रा केप टाऊन में तेजे तीर्थयात्रा 

विश्वास की तीर्थयात्रा तेजे का आयोजन केप टाऊन में

दक्षिण अफ्रीका के केप टाऊन में एक अंतरराष्ट्रीय आयोजन "विश्वास की तीर्थयात्रा" की शुरूआत हो चुकी है। इसका आयोजन तेजे समुदाय की ओर से की गयी है। इस अवसर पर पूरे अफ्रीका के युवा पाँच दिनों के लिए एक साथ होंगे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

केप टाऊन, बृहस्पतिवार, 26 सितम्बर 19 (रेई)˸ इसे एक तीर्थयात्रा कहा जाता है क्योंकि प्रतिभागियों को काफी पैदल चलना पड़ता है। हजारों युवा जो विभिन्न धर्मों और संस्कृति के हैं वे इस आयोजन में मडागास्कर, युगांडा, तंजानिया और आईवरी कोस्ट से एक साथ जमा होंगे।

इस तीर्थयात्रा को "विश्वास की तीर्थयात्रा" नाम दिया गया है क्योंकि यह उन युवाओं को चुनौती देती है जो विभिन्न मूल के हैं, अलग-अलग आस्था एवं पृष्टभूमि से आते हैं कि वे एक साथ विविधता एवं समुदाय का अनुभव कर सकें।  

तेजे समुदाय

यह तेजे के द्वारा आयोजित किया गया है जो फ्रांस स्थित समुदाय है। यह हर प्रकार के दलों और व्यक्तियों को एक साथ लाता और उन्हें मुलाकात करने, काम करने तथा प्रार्थना करने का अवसर प्रदान करता है।

घेरे को तोड़ना

यह एक ऐसी मुलाकात है जो घेरा, पूर्वाग्रह,  भय और आक्रोश को तोड़ डालती है। उस डर और आक्रोश के पीछे दक्षिण अफ्रीका में पिछले हफ्तों की ज़ेनोफोबिक हिंसा थी, एक ऐसी हिंसा जो उस विश्वास को मिटा रही है जिसके द्वारा समुदायों को एक साथ रखा जा सकता है।

यही कारण है कि दक्षिणी अफ्रीका में, घेरे को तोड़ने का निमंत्रण दिया जा रहा है ताकि एक-दूसरे का स्वागत किया जा सके और एक-दूसरे से सीखा एवं एकात्मता का अनुभव किया जा सकें। अपने ही ईश्वर की पूजा की जा सके और लोगों में आशा जगाया जा सके।

आशा का निमंत्रण

इस अवसर के लिए निमंत्रण, "विश्वास की तीर्थयात्रा" तक ही सीमित नहीं होगी। इस ख्रीस्तीय एकतावर्धक एवं अंतरराष्ट्रीय मिलन समारोह जिसमें हर समुदाय के लोग भाग लेंगे। यह "उनके क्षेत्र के लिए एक सच्चा ताजा अवसर है ... यह उत्सव का जश्न मनाने और समर्थन करने के योगदान एक निमंत्रण है जो दक्षिण अफ्रीका में पहले से ही है।"

26 September 2019, 16:16