Cerca

Vatican News
बहामास का गिरजाघर बहामास का गिरजाघर  (AFP or licensors)

तूफान डोरियन के शिकार लोगों तक कलीसिया की पहुँच

नासाओ के महाधर्माध्यक्ष पैट्रिक पिंडर ने दुनियाभर के काथलिकों से अपील की है कि वे लोगों की ज़रूरतों की पूर्ति करने में उनकी मदद करें।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन स्वास्थ्य मंत्री डुआने सैंड्स ने रविवार को एसोसिएटेड प्रेस को बताया कि तूफान में अब तक 44 लोग मारे गए हैं। मरने वालों की संख्या में वृद्धि होने की संभावना है क्योंकि सुरक्षा बल और अन्य टीमें तबाह क्षेत्रों की खोज कर रही हैं।

प्रधानमंत्री ह्यूबर्ट मिनिस ने इसे "देश के इतिहास में सबसे बड़े राष्ट्रीय संकटों में से एक" कहा।

विनाश

महाधर्माध्यक्ष पैट्रिक पिंदर ने पीड़ित लोगों की मदद करने का आग्रह करते हुए इस त्रासदी को एक महाविनाश कहा, जिसको उन्होंने बतलाया कि ऐसा विनाश देश के इतिहास में पहले कभी नहीं देखा गया था।

महाधर्मप्रांत के वेबसाईट में महाधर्माध्यक्ष पिंदर ने कहा कि बहुत सारे लोग बेघर हो गये हैं तथा करीब 70,000 लोग तूफान से प्रभावित हुए हैं।

उन्होंने कहा कि बुनियादी ढांचे, संस्थानों और व्यवसायों को गंभीर रूप से नुकसान पहुंचा है, और कई लोगों की जान चली गई है एवं मरने वालों की संख्या बढ़ने की संभावना है।

उन्होंने बतलाया कि बहामास, तूफानी क्षेत्र में है और लोगों को इस तरह की आपदाओं का जवाब देने के लिए बेहतर स्थिति में रहने हेतु तैयार रहने की आवश्यकता है।

तत्काल एवं दीर्घकालीन प्रत्युत्तर

महाधर्माध्यक्ष ने कहा कि सबसे पहला प्रत्युत्तर होना चाहिए कि लोगों को मौलिक आवश्यकताओं को प्रदान किया जाए, विशेषकर, भोजन, पेयजल, आश्रय, कपड़े इत्यादि। उन्होंने काथलिकों से आह्वान किया कि वे प्रभावित लोगों की मौलिक आवश्यकताओं की पूर्ति करने में मदद करें। लेकिन तूफान डोरियन द्वारा पीछे छोड़े गए विनाश का पैमाना इतना भारी है कि उनके पुनर्निर्माण के प्रयास में बहुत लंबा समय लगने वाला है। इसलिए कलीसिया की तत्काल प्रतिक्रिया बहुत महत्वपूर्ण है और दीर्घकालिक प्रतिक्रिया भी समान रूप से महत्वपूर्ण है।

उन्होंने इस बात पर भी ध्यान आकृष्ट किया कि न केवल भौतिक सहायता प्रदान की जाए बल्कि लोगों को आध्यात्मिक, मानसिक और मनोवैज्ञानिक सहायता भी दी जाए।

संत पापा फ्राँसिस

संत पापा फ्राँसिस ने रोम से मोजाम्बिक की राजधानी मापूतो की यात्रा पर 4 सितम्बर को अपनी प्रेरितिक यात्रा के आरम्भ में डोरियन तूफान से पीड़ित लोगों के लिए प्रार्थना करने का आह्वान किया था।  
सिटी

 

10 September 2019, 15:42