खोज

Vatican News
मेजोगोरी में युवा उत्सव मेजोगोरी में युवा उत्सव  ((Fonte personal intervistato) )

मेजोगोरी में 30वाँ वार्षिक युवा उत्सव

बोसिन्या-हेरजेगोविना के मेजोगोरी में 30वाँ वार्षिक युवा उत्सव मनाया जा रहा है। उत्सव का उद्घाटन 1 अगस्त को कार्डिनल दी दोनातिस ने ख्रीस्तयाग अर्पित कर की।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

बोसिन्या, शनिवार, 3 अगस्त 2019 (रेई)˸ विश्वभर के करीब 50,000 युवा मेजोगोरी में 30वाँ वार्षिक युवा उत्सव में भाग ले रहे हैं। 6 दिवसीय युवा वार्षिक उत्सव की विषयवस्तु है "मेरा अनुसरण करो।"   

उत्सव का उद्घाटन रोम के विकर जेनेरल कार्डिनल दी दोनातिस ने 1 अगस्त को की और इसका समापन 6 अगस्त को नवीन सुसमाचार प्रचार को प्रोत्साहन देने हेतु गठित परमधर्मपीठीय समिति के अध्यक्ष महाधर्माध्यक्ष रिनो फिसिकेल्ला करेंगे।

कार्डिनल दी दोनातिस ने प्रवचन में प्रभु की कृपा पर आश्चर्य प्रकट किया जो हमें लगातार कृपा प्रदान करते रहते हैं। उन्होंने कहा कि सब कुछ कृपा से ही संभव है।

तीन प्रतीक

कार्डिनल ने कहा कि येसु को सुनने के लिए, जब वे कहते हैं "मेरा अनुसरण करो", यह आवश्यक है कि हम पवित्र आत्मा के लिए अपने हृदयों को खोलने दें और वे हमें दिव्य प्रज्ञा से भर देंगे।

सुसमाचार पाठ पर चिंतन करते हुए उन्होंने कहा "आज का सुसमाचार पाठ नये व्यवस्थान के सदूकियों की चर्चा करता है, सुसमाचार के अनुसार यह बुद्धिमान व्यक्तियों को प्रस्तुत करता है।" कार्डिनल ने पाठ में तीन प्रतीक बतलाये।

पहला - एक भला मछुआरा

कार्डिनल दोनातिस ने कहा "जैसे कि हमने सुना है, स्वर्ग का राज्य मछली पकड़े वाले जाल के समान है। मछली पकड़े के लिए जाल को समुद्ध में डाला जाता है, उसके बाद उसको खींच का बाहर किया जाता है, फिर अच्छी मछलियों को खाने के लिए एवं अन्य चीजों को फेंकने के लिए अलग किया जाता है। ख्रीस्तीय एक अच्छे मछुवारे के समान होते हैं जो अपने मन के सागर में विचारों को पकड़ते एवं बेकार और विषक्त बातों को निकाल फेंकते हैं।   

उन्होंने कहा, "सुसमाचार हमें निमंत्रण देता है कि हम अपने विचारों को शुद्ध करें ताकि ख्रीस्त की प्रेरणाओं को ग्रहण कर सकें। एक सुसमाचारी हृदय मुक्त मन की मांग करता है।

दूसरा - सच्चाई की क्षितिज को ढूँढें

कार्डिनल दी दोनातिस ने दूसरे प्रतीक के बारे कहा कि येसु न्याय की बात करते हैं। यह न्याय सच्चाई की आनन्दमय ज्योति है न कि तानाशाह। कार्डिनल दी दोनातिस ने अंतिम न्याय को उन लोगों के लिए "दिव्य प्रेम की जीत" बतलाया जो उन पर विश्वास करते हैं किन्तु जो ख्रीस्त को अस्वीकार करता है, उनके लिए न्याय का यह प्रकाश उनकी फल हीनता की सच्चाई को प्रकट करेगी। उन्होंने कहा कि एक युवा ख्रीस्तीय बुद्धिमान होता है जो सच्चाई की बातें बोलता, सच्चाई की खोज करता एवं सच्चाई को बढ़वा देता है।

तीसरा - नया के साथ पुराना

अंततः कार्डिनल ने तीसरे प्रतीक को प्रकट करते हुए कहा कि सुसमाचार सदूकियों के बारे बतलाता है। सदूकियों की तुलना पुराने ख्रीस्तियों से की गयी है जो अपने हृदय के भंडार से नयी और पुरानी चीजों को निकालते हैं। इस अभिव्यक्ति को नये और पुराने के बीच संबंध को समझने के लिए किया गया है। पुराना व्यवस्थान, नये व्यस्थान को तैयार करता है। इसे पुराने व्यवस्थान के संदर्भ में ही पूरी तरह समझा जा सकता है। एक-दूसरे को खोलने के लिए पुराने और नये दोनों की आवश्यकता है।

कार्डिनल ने कहा कि "एक सच्चा ख्रीस्तीय न तो परम्परावदी होता और न ही प्रगतिशील। एक सच्चा ख्रीस्तीय उस व्यक्ति के समान है जो घर में तैयार रोटी के स्वाद, सुगंध और उसके मिठास की याद बनाये रखता है क्योंकि यह एक प्राचीन नुस्खा के साथ मिलाया और पकाया हुआ है।"

03 August 2019, 17:00