खोज

Vatican News
प्रतीकात्मक तस्वीर प्रतीकात्मक तस्वीर  (ANSA)

येसुसमाजी पुरोहित काथलिक-ऑर्थोडोक्स कलीसिया सभा के पर्यवेक्षक

ख्रीस्तीय एकता को बढ़ावा देने वाली परमधर्मपठीय समिति ने जेसुइट फादर जिजी को वाटिकन पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 27 जुलाई 2019 (वाटिकन न्यूज) : जनवरी, 2020 में लेबनान में होने वाले काथलिक कलीसिया और ओरिएंटल ऑर्थोडोक्स कलीसिया के बीच एक अंतरराष्ट्रीय कलीसिया एकता धर्मशास्त्र चर्चा सम्मेलन के लिए केरल के एक जेसुइट पुरोहित को वाटिकन पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त किया गया है। ऑक्सफ़ोर्ड यूनिवर्सिटी के शोध विद्वान, फादर जिजी पुथुवेतिलकम, इस सम्मेलन में काथलिक कलीसिया के लिए पर्यवेक्षक होंगे। इसमें अनेक ख्रीस्तीय कलीसियाओं के धर्माध्यक्षों की भागीदारी होगी।

कलीसिया के सूत्रों के अनुसार, ख्रीस्तीय एकता को बढ़ावा देने वाली परमधर्मपठीय समिति ने फादर जिजी को वाटिकन पर्यवेक्षक के रूप में नियुक्त किया। परमधर्मपठीय समिति काथलिक कलीसिया और अन्य ख्रीस्तीय कलीसियाओं के बीच संवाद को बढ़ावा देने हेतु दिशानिर्देश देती है।

सम्मेलन में लगभग 30 प्रतिभागी शामिल होंगे, जिनमें प्रख्यात धर्मशास्त्री, कलीसिया के प्रमुख और दोनों पक्षों के पर्यवेक्षक शामिल होंगे। यह सम्मेलन 26 जनवरी से 1 फरवरी, 2020 तक आयोजित किया जाएगा।

फादर जिजी धर्मशास्त्रीय सिद्धांतों की पहचान करने के लिए जिम्मेदार होंगे जो ओरिएंटल ऑर्थोडोक्स कलीसिया और काथलिक कलीसिया के लिए सामान्य है। वे उन दिशा-निर्देशों का भी विश्लेषण करेंगे, जिन पर दोनों पक्षों द्वारा सहमति जताई जाती है।

फादर जिजी अंग्रेजी साहित्य में स्नातक, दर्शनशास्त्र और सीरियाई साहित्य में स्नातकोत्तर हैं। उन्होंने ग्रेगोरियन विश्वविद्यालय, रोम से धर्मशास्त्र में स्नातक की डिग्री भी प्राप्त की है।

27 July 2019, 14:35