Cerca

Vatican News
फ्रांस के लिए प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष लुईजी वेंतुरा फ्रांस के लिए प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष लुईजी वेंतुरा   (AFP or licensors)

फ्राँस के नूनसियों के लिए कूटनीतिक प्रतिरक्षा से इन्कार

वाटिकन प्रेस कार्यालय ने फ्राँस के प्रेरितिक राजदूत के लिए कूटनीतिक प्रतिरक्षा को अस्वीकार करने के निर्णय पर एक बयान जारी किया, जिनपर फ्राँसीसी अधिकारियों द्वारा कथिक यौन दुराचार के आरोप की जाँच हो रही है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन प्रेस कार्यालय के अद आंतरिम निदेशक अलेस्सांद्रो जिसोत्ती ने इस बात की पुष्टि की कि फ्रांस के लिए प्रेरितिक राजदूत महाधर्माध्यक्ष लुईजी वेंतुरा के लिए उन पर लगे आपराधिक मामले की जाँच प्रक्रिया के कारण, राजनीतिक प्रतिरक्षा को इन्कार कर दिया गया है। यह कार्रवाई 18 अप्रैल 1961 के वियना कन्वेंशन के अनुसार की गयी है।

जिसोत्ती ने एक संक्षिप्त बयान में कहा, "राजनयिक प्रतिरक्षा से इन्कार करने का कदम एक असाधारण संकेत है, जो मामले की शुरुआत से ही पूरी तरह और सहजता से फ्रांसीसी न्यायिक अधिकारियों के साथ सहयोग करने हेतु प्रेरितिक राजदूत की इच्छा की पुष्टि करता है।"  उन्होंने बतलाया कि परमधर्मपीठ ने प्रक्रिया के प्रारंभिक चरण के समापन का इंतजार किया था - जिसमें निर्णय लेने से पहले महाधर्माध्यक्ष लुईजी वेंतुरा ने स्वतंत्र रूप से भाग लिया।

परमधर्मपीठ ने जून के अंत में उस चरण के अंत की सूचना प्राप्त की और पिछले सप्ताह फ्रांसीसी अधिकारियों को प्रतिरक्षा से इन्कार करने के निर्णय की जानकारी दी।

राजनयिक प्रतिरक्षा कानूनी प्रतिरक्षा का एक रूप है जो सुनिश्चित करता है कि राजनयिकों को सुरक्षित मार्ग दिया जाता है और मेजबान देश के कानूनों के तहत मुकदमा या अभियोजन पक्ष के लिए अतिसंवेदनशील नहीं माना जाता है, लेकिन उन्हें अभी भी निष्कासित कर दिया जा सकता है। आधुनिक राजनयिक प्रतिरक्षा को वियना कन्वेंशन ऑन डिप्लोमैटिक रिलेशंस (1 9 61) में अंतरराष्ट्रीय कानून के रूप में संहिताबद्ध किया गया था, जिसे कुछ हद तक राष्ट्रों द्वारा अनुमोदित किया गया है, हालांकि इस तरह की प्रतिरक्षा की अवधारणा और परंपरा के पास हजारों वर्षों से अधिक का इतिहास है।

09 July 2019, 16:04