Cerca

Vatican News
थाईलैंड  के धर्माध्यक्षों के साथ कार्डिनल फिलोनी थाईलैंड के धर्माध्यक्षों के साथ कार्डिनल फिलोनी 

थाई काथलिकों को "मिशनरी शिष्य" बनने का आग्रह, कार्डिनल फिलोनी

लोकधर्मियों के सुसमाचार प्रचार हेतु गठित परमधर्मपीठीय धर्मसंध के प्रीफेक्ट कार्डिनल फर्नांडो फिलोनी ने थाईलैंड के सम्प्रान में पवित्र समारोही ख्रीस्तयाग के दौरान कलीसिया के 350 वर्षों को चिह्नित किया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

सम्प्रान, बुधवार 22 मई 2019 (वाटिकन सिटी) : परमधर्मपीठ के उच्चाधिकारी ने थाईलैंड की काथलिक कलीसिया को प्रभु के आमंत्रण को स्वीकार करने और उनके प्रेम में बने रहने हेतु आग्रह किया जिससे कलीसिया और भी फलदायी बन सके। कार्डिनल फिलोनी ने राजधानी बैंकॉक से 30 किलोमीटर पश्चिम में स्थित सम्प्रान में शनिवार 18 मई को काथलिक कलीसिया के 350 वर्षों के लिए धन्यवादी समारोही ख्रीस्तयाग का अनुष्ठान किया।

संत पापा का संदेश

पवित्र मिस्सा के दौरान, कार्डिनल फिलोनी ने थाईलैंड के काथलिकों को संत पापा फ्राँसिस का संदेश पढ़ सुनाया, संदेश में संत पापा ने उनके साथ अपनी निकटता व्यक्त की, क्योंकि वे "इन 350 वर्षों में प्राप्त कई अवसरों के लिए ईश्वर का धन्यवाद करते हैं।

संत पापा ने लिखा, "मैं प्रार्थना करता हूँ कि आप पवित्रता में बढ़ें और एकजुटता, बंधुत्व और अपने प्यारे देश में अच्छाई, सच्चाई और न्याय की इच्छा को बढ़ावा देते हुए मसीह के राज्य के प्रसार में काम करना जारी रखें।"

कार्डिनल फिलोनी ने अपने प्रवचन में कहा,“यह प्रभु की कृपा का समय है। यह उत्सव इस राष्ट्र में सुसमाचार प्रचार के तीन सौ पचास वर्षों के सकारात्मक परिणामों का साक्षी है। यह महत्वपूर्ण और खुशी का उत्सव है, मिशनरी शिष्यों के प्रति प्रतिबद्धता का क्षण है।”

1669 में सियाम के अपोस्टोलिक भिखारिएट की स्थापना द्वारा औपचारिक रूप से देश में स्थानीय कलीसिया की शुरुआत को चिह्नित किया गया। पिछले 350 वर्षों के दौरान देश में 11 धर्मप्रांतों में लगभग 300,000 काथलिक हैं।

22 May 2019, 16:51