Cerca

Vatican News
श्रीलंका में प्रार्थना करते हुए विश्वासी श्रीलंका में प्रार्थना करते हुए विश्वासी  (AFP or licensors)

डर का सामना, सुलह को बढ़ावा, कारितास श्रीलंका

ईस्टर रविवार को बम हमलों से प्रभावित श्रीलंका के लोगों की जरूरतों पर प्रतिक्रिया करते हुए, राष्ट्र के काथालिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के सामाजिक विभाग कारितास श्रीलंका (एसईडीईसी) के निदेशक उन हमलों से होने वाली भारी गिरावट के बारे में कहा कि इसने राष्ट्रीय सुलह प्रक्रिया को पूरी तरह से बंद कर दिया है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

कोलम्बो, शनिवार 25 मई 2019 (वाटिकन न्यूज) :  श्रीलंका में ईस्टर के दिन बम विस्फोटों में 257 लोग मारे गए और गिरजाघरों और होटलों को धराशायी कर दिया गया, जिससे अलगाववादी तमिल टाइगर्स के खिलाफ लंबे गृह युद्ध के बाद एक कठिन शांति और सुलह प्रक्रिया को नुकसान पहुंचा है।

डर ने श्रीलंका के विभिन्न जातीय और धार्मिक समुदायों के सदस्यों के बीच नए सिरे से विभाजन पैदा किया है। इन सबसे ऊपर, उन सामान्य मुसलमानों का दैनिक जीवन कठिन हो गया है जो हमले और भेदभाव झेल रहे हैं। विभिन्न धर्मों के प्रतिनिधियों और नागर समाज के नेताओं के साथ, कारितास श्रीलंका शांति और सुलह प्रक्रिया में सबसे अहं भूमिका निभा रही है।

कारितास श्रीलंका के राष्ट्रीय निदेशक फादर महेंद्र गुनीटुलेके ने वाटिकन संपाददाता लिंडा बोर्डोनी से से साक्षात्कार में कहा कि लोग बम विस्फोटों से बहुत हैरान और त्रस्त थे, उनकी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए कार्यक्रमों की तत्काल आवश्यकता थी।

फादर महेंद्र ने हताया कि कारितास श्रीलंका ने बम विस्फोट के तुरंत बाद मनो-सामाजिक और कानूनी आवश्यकताओं को देखते हुए तुरंत कार्यक्रम शुरु किया। उन्होंने कहा कि कारितास प्रांतीय नेटवर्क और देश के अन्य संगठनों और धर्मप्रांतीय केंद्रों के साथ लोगों की मदद हेतु काम कर रहे हैं।

सरकार का सहयोग

उन्होंने कहा,“कई समस्याओं से निपटने में कारितास को सरकार से भी समर्थन मिला है। बम विस्फोट गिरजाघर में हुआ, अतः कलीसिया के चरवाहों का उत्तदायित्व बनता है कि वे अपनी भेड़ों की आध्यत्मिक, मानसिक और शारीरिक देखभाल करें। सरकार गिरजाघरों के पुनर्निर्माण की देखभाल कर रही है "और हम इसके लिए बहुत आभारी हैं।” सरकार पीड़ितों के परिवारों की आर्थिक मदद कर रही है।

डर

उन्होंने कहा, "हमने न सिर्फ सम्पत्ति बलकि जीवन खो दिया हैं और इस आतंकी हमले से लोगों में डर पैदा हुआ है। लोगों को गहरा आघात लगा है, "यह डर मनोविकृति है, जो मानव मानस में प्रवेश कर गया है। इस भय को लोगों के मानस पटल से बाहर निकालने और देश के सभी नागरिकों के लिए शांतिपूर्ण वातावरण बनाने के लिए तत्काल काम करने की आवश्यकता है।

उन्होंने कहा कि इस विस्फोट ने 30 सालों से चल रहे संघर्ष के सामाप्त होने के 10 वर्ष बाद स्थापित शांति पर गहरा आघात पहुँचाया है। वे शांति स्थापना के 10 वर्षों का जश्न मनाने वाले थे कि इस बम विस्फोट ने कार्यक्रमों पर पानी फेर दिया। हमलों ने, शांति पहल और सुलह कार्यक्रमों को नष्ट कर दिया है। कारितास पुल निर्माण  की पहल में शामिल है, पर यह कठिन काम है।"

25 May 2019, 15:30