बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
फिलीपीन के राष्ट्रपति रोड्रिगो डुटरटे महाधर्माध्यक्ष रोमुलो से मुलाकात करते हुए  फिलीपीन के राष्ट्रपति रोड्रिगो डुटरटे महाधर्माध्यक्ष रोमुलो से मुलाकात करते हुए   (ANSA)

फिलीपीन धर्माध्यक्षों द्वारा प्रार्थना, तपस्या और दान देने हेतु

9 जुलाई को प्रकाशित प्रेरितिक पत्र में, फिलीपींस के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने देश की कई खतरनाक परिस्थितियों की चर्चा की और काथलिकों को शांति बहाल रखने का आग्रह किया गया था।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

फिलीपींस के काथलिक धर्माध्यक्षों ने अपने विश्वासियों को अगले सप्ताह के 4 दिनों में उनसे जुड़ने के लिए आमंत्रित किया है जिससे प्रार्थना, तपस्या और दान द्वारा उन लोगों के लिए प्रायश्चित  किया जा सके जो ईश्वर के विरूद्ध निन्दा करते हैं, झूठी गवाही देते हैं और जो अपराध से लड़ने के लिए लोगों की हत्या को न्याय समझते हैं।

यह आमंत्रण फिलीपींस के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन (सीबीसीपी) द्वारा प्रेरितिक पत्र में आया था, जिसे मनिला में 117 वें सीबीसीपी की आम सभा के अंत में सोमवार को एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में प्रकाशित किया गया था।

सीबीसीपी अध्यक्ष, दावाओ के महाधर्माध्यक्ष रोमुलो वल्लेस द्वारा हस्ताक्षरित, "आनन्दित और खुश रहो!" प्रेरितिक पत्र में फिलीपींस की कई खतरनाक परिस्थितियों की चर्चा की गई है और काथलिकों को शांति बनाने के लिए खुद को प्रतिबद्ध करने का आग्रह किया गया है।

प्रार्थना, तपस्या और  दान

धर्माध्यक्षों ने  विश्वासियों से 16 जुलाई 2018 को कार्मेल की माता मरियम के त्योहार पर प्रार्थना और तपस्या में दिन बिताने का आग्रह किया और "उन लोगों पर ईश्वर की दया और न्याय का आह्वान किया जिन्होंने ईश्वर के पवित्र नाम की निंदा की है और झूठी गवाही देते हैं, जो लोग देश में अपराधों से लड़ने के साधन के रूप में हत्या करते हैं तथा हत्या को औचित्य ठहराते हैं। "उन्होंने 17 से 19 जुलाई तीन दिन तक प्रार्थना त्याग और तपस्या, को जारी रखने हेतु आमंत्रित किया।"

 प्रेरितिक पत्र में किसी का भी नाम उल्लेख नहीं किया गया है लेकिन कई अवसरों पर राष्ट्रपति रॉड्रिगो ड्यूटेरटे द्वारा किए गए चौंकाने वाले बयान को दर्शाता है। ड्यूटेरटे का काथलिक धर्माध्यक्षों के साथ एक अस्थिर रिश्ता था। धर्माध्यक्षों ने ड्रग्स पर उनके क्रूर युद्ध, मृत्युदंड और अश्लील भाषा का प्रयोग करने के लिए उनकी कड़ी आलोचना की थी।

जून में दावाओ शहर में एक भाषण में ईश्वर को "बेवकूफ" कहने के बाद ड्यूटेरे ने भारी आलोचना का सामना किया था। शुक्रवार को एक और मौके पर उन्होंने कहा कि यदि कोई ईश्वर को साबित कर सकता है तो वह अपने पद से हट जाएगा।

राजनीति नहीं बल्कि विश्वास और नैतिकता

प्रेरितिक पत्र, एशिया के बहुल काथलिक राष्ट्र के धर्माध्यक्षों ने उन आरोपों को अस्वीकार किया कि वे "सरकार को अस्थिर करने के लिए राजनीतिक कदमों में शामिल थे"। उन्होंने कहा, "हम राजनीतिक नेता नहीं हैं और निश्चित रूप से सरकार के राजनीतिक विरोधी नहीं हैं।" उन्होंने कहा कि कलीसिया निर्वाचित राजनीतिक अधिकारियों का सम्मान करती है जब तक कि वे "आध्यात्मिक और नैतिक सिद्धांतों का विरोध नहीं करते हैं, जैसे जीवन की पवित्रता का सम्मान, सृष्टि की अखंडता और मानव व्यक्ति की अंतर्निहित गरिमा का सम्मान।"

उन्होंने कहा, "जब हम कुछ मुद्दों पर बात करते हैं, यह हमेशा विश्वास और नैतिकता, विशेष रूप से सामाजिक न्याय के सिद्धांतों से है, न कि किसी भी राजनीतिक या विचारधारात्मक एजेंडा के साथ।"

कलीसिया जीवन, शांति और गरीबों के लिए

प्रेरितिक पत्र ने दिसंबर के बाद से बंदूक हमलों में 3 पुरोहितों की हत्या और कलीसिया के कर्मियों पर हुए हमलों पर अपनी नाराजगी को व्यक्त किया। उन्होंने पूछा, "मसीह का साक्ष्य देने के लिए पुरोहितों की हत्या में कोई नयी बात क्या है?" प्रधान चरवाहे के पद चिन्हों पर चलते हुए अपने कर्तव्यों को करते के दौरान बदनाम हो जाते हैं तो इसमें कौन सी नई बात है?"

 फिलीपीनी धर्माध्यक्षों ने कलीसिया की बुलाहट और शांति के मिशन को फिर से जोर देने और गरीबों, विस्थापितों और पीड़ितों के साथ एकजुटता व्यक्त करने के लिए प्रेरितिक पत्र का भी उपयोग किया, विशेष रूप से ड्रग्स का सेवन करने वाले जिन्हें "गैर-इंसान" और ड्रग्स के युद्ध में फंसे निर्दोष लोगों को अपराधियों के रूप में लेबल लगा दिया गया है।

11 July 2018, 17:01