बेटा संस्करण

Cerca

Vatican News
कार्डिनल लुईस अंतोनियो ताग्ले कार्डिनल लुईस अंतोनियो ताग्ले 

हमला के लिए तैयार रहें, कार्डिनल ताग्ले

मनिला के महाधर्माध्यक्ष ने विश्वासियों का आह्वान किया कि वे हमले के लिए तैयार रहें। ख्रीस्त का अनुसरण करने में अनेक क्रूस हैं जिन्हें हमें ढ़ोना है...नकली देवी- देवताओं का अनुसरण क्रूस को मिटा देता है तथा झूठे रास्तों का वादा करता है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

मनिला, बृहस्पतिवार, 19 जुलाई 2018 (एशियान्यूज़)˸ "यदि आप ख्रीस्त से प्रेम करते हैं तो लोग आपसे घृणा करेंगे।" उक्त बात मनिला के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल लुईस अंतोनियो ताग्ले ने सोमवार को कार्मेल की माता मरियम के पर्व के अवसर पर ख्रीस्तयाग अर्पित करते हुए प्रवचन में कही।

मनिला के संत सेबास्तियन महागिरजाघर में अपने प्रवचन में कार्डिनल ने इस बात पर जोर दिया कि ख्रीस्त का रास्ता आसान नहीं है, खासकर, इस समय जब "ईश्वर के लिए भी कई प्रतिद्वंद्वी" हैं।

झूठे देवी-देवताओं के अनुयायी न बनें

उन्होंने कहा, "कभी-कभी, जो ईश्वर होने का नाटक करते हैं वे दूसरों के लिए आकर्षक लगते हैं और येसु की तुलना में अधिक अनुयायियों को प्राप्त करते हैं।"

कार्डिनल ने कहा कि कलीसिया पर आक्रमण के बावजूद, काथलिकों को किसी तरह के झगड़े में शामिल होने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा, "हमें झगड़े में शामिल होने की आवश्यकता नहीं है और न ही हमारा उद्देश्य उसमें शामिल होना चाहिए किन्तु हमें हमले के लिए तैयार होना चाहिए क्योंकि हम ख्रीस्त के हैं।" उनके अनुसार झूठे देवी-देवताओं के अनुयायी भ्रामक वादों द्वारा अंधा बनाये जाते हैं।

ख्रीस्त के अनुसरण में क्रूस

"ख्रीस्त का अनुसरण करने में अनेक क्रूस हैं जिन्हें हमें ढोना है क्योंकि झूठे देवी देवताओं का अनुसरण क्रूस को मिटा देता है तथा गलत रास्ते की प्रतीज्ञा करता है।"

समारोह के दौरान महागिरजाघर के नये अध्यक्ष फादर एडगर तुबियो ने पदभार ग्रहण किया। कार्डिनल ताग्ले ने कहा कि कलीसिया के सेवकों को भी विश्वासियों के मार्गदर्शन की आवश्यकता है।

पुरोहितों की मदद करें  

उन्होंने विश्वासियों से कहा, "अपने पल्ली पुरोहितों को एक आदर्श पुरोहित बनने हेतु प्रेरित करें क्योंकि वे भी दूसरों के समान झूठे देवताओं के माया से आकर्षित होते हैं।"

फिलीपींस के संत सेबास्तियन महागिरजाघर में कार्मेल की माता मरियम का पर्व इस लिए भी खास था क्योंकि यह उनके आगमन की 400वीं वर्षगाँठ थी।  

19 July 2018, 15:57