Vatican News
मोजाम्बिक में चक्रवाती तूफान केनेथ मोजाम्बिक में चक्रवाती तूफान केनेथ  

जलवायु परिवर्तन की कीमत चुका रहा है मोजाम्बिक

उत्तरी मोजाम्बिक में चक्रवाती तूफान केनेथ के कारण हुए हादसों में तीन लोगों की मौत हो गई है। तटीय राष्ट्र में इससे एक महीने पहले इडाई तूफान ने भारी तबाही मचाई थी।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मापुटो, शनिवार 27 अप्रैल 2019 (वाटिकन न्यूज) : उत्तरी मोजाम्बिक में चक्रवाती तूफान केनेथ के कारण हुए हादसों में तीन लोगों की मौत हो गई है। श्रेणी 4 चक्रवात के आने से गुरुवार को कोमोरोस द्वीप पर 220 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने लगी और पेड़ों के उखड़ने और गिरने से अनेक मकान धराशायी हो गये और 6,80,000 से अधिक लोग खतरे में हैं।

मोजाम्बिक पेम्बा शहर के मूल निवासी फादर बर्नार्डो सुएट जो अफ्रीका के लिए पुर्तगाली भाषा में वेटिकन न्यूज का नेतृत्व करते हैं, उन्होंने वाटिकन संवाददाता लिंडा बोर्डोनी को बताया कि लोग सतर्क हो गए हैं और चक्रवात केनेथ से बचने के लिए कार्रवाई कर रहे हैं।

उन्होंने बताया कि उत्तरी क्षेत्र में चक्रवाती तूफान आने का पिछला कोई रिकॉर्ड नहीं है। मोजाम्बिक के नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ डिजास्टर मैनेजमेंट (आईएनजीसी) प्रवक्ता पाउलो टॉमस ने कहा, “परिवारों को क्षेत्र से अनिवार्य रूप से निकालने का काम चल रहा है और तब तक जारी रहेगा जब तक कि सभी को वहां से निकाल नहीं लिया जाता।

चेतावनी जारी किए जाने के बाद बुधवार को सभी उड़ानें रद्द कर दी गईं और स्कूल बंद कर दिए गए। आईएनजीसी ने कहा कि 30,000 लोगों को तुरंत निकाला गया। पूवार्नुमानकर्ताओं ने अगले कई दिनों तक भारी बारिश होने की चेतावनी दी है। संयुक्त राष्ट्र ने कहा कि 600 मिलीमीटर से अधिक बारिश की संभावना है।

मार्च में, चक्रवाती तूफान इडाई ने क्षेत्र में जबरदस्त कहर बरपाया था। मोजाम्बिक, मलावी और जिम्बाब्वे में 1000 से अधिक लोगों की मौत हो गई, कम से कम 30 लाख लोगों को मानवीय सहायता की आवश्यकता पड़ी थी। ।

संत पापा फ्राँसिस का इंतजार

संत पापा फ्राँसिस सितम्बर में मोजाम्बिक की यात्रा करने वाले हैं। फादर बर्नार्डो ने कहा कि संत पापा का इन्तजार देश की सरकार, लोग और कलीसिया बड़ी बेसब्री से कर रही है।

उन्होंने कहा, "संत पापा की उपस्थिति बहुत ही उत्साहजनक होगी, न केवल विश्वासियों के लिए, बल्कि उन लोगों के लिए भी जो, हाशिए के लोग, दूर दराज में रहने वाले हैं ऐसे लोग जो बहुधा भुला दिए जाते हैं उनके लिए जीवन में एक बार, दुनिया की नजरों के सामने रहने का यह अवसर होगा।”

27 April 2019, 16:47