Cerca

Vatican News
मोज़ाम्बिक में चक्रवात मोज़ाम्बिक में चक्रवात   (AFP or licensors)

मोज़ाम्बिक में चक्रवात से करीब 1000 लोगों के मरने की आशंका

चक्रवात इडाई से से संपूर्ण क्षेत्र बाढ़ग्रस्त है और उन तक केवल हेलीकॉप्टरों से पहुंचा जा सकता है। अफ्रीका सीयूएएसएस के डॉक्टरों ने खासकर बीरा क्षेत्र में कई स्वास्थ्य सुविधाओं और अन्य संरचनाओं के नष्ट होने की रिपोर्ट की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मोज़ाम्बिक, बुधवार 20 मार्च 2019 (रेई) : मोजाम्बिक अधिकारियों को डर है कि चक्रवात इडाई से मरने वालों की संख्या कम से कम 1,000 हो जाएगी। मूसलाधार बारिश ने कई बुनियादी ढांचे और सड़कों को नष्ट कर दिया है, फिलहाल आधिकारिक सूचना अनुसार 150 से अधिक लोगों की मौत हुई है।

राष्ट्रपति न्यासी: पूरे गाँव गायब हो गए

राष्ट्रपति फ़िलिप न्यासी ने बीरा और मानिका और सोफाला के प्रांतों से हेलीकॉप्टर द्वारा उड़ान भरी और राष्ट्रीय रेडियो पर घोषणा की: "यह एक महान अनुपात की आपदा है। ऐसा लगता है कि एक हजार से अधिक मौतें हुई हैं" "पूरे गाँव गायब हो गए हैं, समुदाय अलग-थलग हो गए हैं और अनेक मृत शरीर पानी पर तैर रहे हैं।"

सबसे अधिक प्रभावित शहर बेइरा

मोज़ाम्बिक में सबसे अधिक प्रभावित बेइरा शहर है, जहाँ से अफ्रीका सीयूएएसएस  कार्यकर्ताओं के साथ डॉक्टरों का कहना है कि शहर नष्ट हो गया है। 170 किलोमीटर प्रति घंटे की गति से चलने वाली हिंसक हवा ने शहरी क्षेत्र में तबाही मचा दी है। घरों के छत उड़ गये हैं, कई घर ध्वस्त हो गये हैं कई पेड़ उखड़ गये हैं, डालियाँ टूटी पड़ी हैं और पूरा क्षेत्र मलवे में बदल गया है। बीरा के केंद्रीय अस्पताल में सबसे कठिन स्थिति: बिजली के बिना ऑपरेटिंग ब्लॉक अनुपयोगी है; साथ ही प्राथमिक चिकित्सा केन्द्र भी पानी और बिजली के बिना ठप है।

अंतरराष्ट्रीय सहायता

इस बीच, चक्रवात की चपेट में आने वाले क्षेत्रों में, अंतरराष्ट्रीय सहायता पहुंच रही है, विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) और मोजाम्बिक सरकार का आपदा कार्यालय पहले से ही मौजूद हैं। पीड़ितों की सहयता की जरुरत को देखते हुए, विश्व खाद्य कार्यक्रम (पाम) कार्यकारी ने मोजाम्बिक सरकार को दक्षिण अफ्रीका से हेलीकॉप्टर मांगने की सलाह दी जिससे कि सबसे अधिक तबाह क्षेत्रों में राहत पहुँचायी जा सके।

मलावी और ज़िम्बाब्वे भी प्रभावित

विश्व खाद्य कार्यक्रम (पीएएम) और आधिकारिक सरकारी सूत्रों के आंकड़ों के अनुसार,  मोजाम्बिक के तूफान ने मलावी और जिम्बाब्वे के लगभग 3 मिलियन लोगों को भी प्रभावित किया है।

20 March 2019, 17:05