Vatican News
यमन ताइज में एक कुपोषित बच्ची का इलाज यमन ताइज में एक कुपोषित बच्ची का इलाज  (AFP or licensors)

2020 महामारी वर्ष में भूख, कुपोषण बदतर, संयुक्त राष्ट्र

2020 में भूख से प्रभावित लोगों की संख्या में पिछले पांच वर्षों की तुलना में अधिक वृद्धि हुई है। यह काफी हद तक कोविड -19 महामारी के प्रभावों के कारण था।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

न्यूयॉर्क, बुधवार 14 जुलाई 2021 (वाटिकन न्यूज) : विश्व की आबादी का लगभग दसवां हिस्सा - 811 मिलियन लोग - 2020 में कुपोषित थे, संयुक्त राष्ट्र ने विश्व में खाद्य सुरक्षा और पोषण (सोफी) का नवीनतम संस्करण सोमवार को जारी किया। इसने अनुमान लगाया कि वैश्विक खाद्य सुरक्षा पर कोविड -19 के स्थायी प्रभावों के कारण, 2030 में लगभग 660 मिलियन लोग अभी भी भूख का सामना कर सकते हैं।

सोफी खाद्य और कृषि संगठन (एफएओ), कृषि विकास के लिए अंतर्राष्ट्रीय कोष (आईएफएडी), संयुक्त राष्ट्र बाल कोष (यूनिसेफ), संयुक्त राष्ट्र विश्व खाद्य कार्यक्रम (डब्ल्यूएफपी) और विश्व स्वास्थ्य संगठन(डब्ल्यूएचओ) द्वारा संयुक्त रूप से तैयार की गई वार्षिक प्रमुख रिपोर्ट है। इसका उद्देश्य सतत विकास के लिए 2030 एजेंडा के संदर्भ में भूख को समाप्त करने, खाद्य सुरक्षा प्राप्त करने और पोषण में सुधार लाने और इस लक्ष्य को प्राप्त करने के लिए प्रमुख चुनौतियों पर गहन विश्लेषण प्रदान करने की दिशा में प्रगति को ट्रैक करना और सूचित करना है।

सोफी 2021 की रिपोर्ट में कहा गया है कि भूखमरी में सबसे तेज वृद्धि अफ्रीका में हुई, जहां 21 प्रतिशत याने 282 मिलियन लोगों के कुपोषित होने का अनुमान है। हालाँकि, दुनिया के आधे से अधिक कुपोषित लोग एशिया में रहते हैं - 418 मिलियन या जनसंख्या का 9 प्रतिशत। लैटिन अमेरिका में, 60 मिलियन या 9.1 प्रतिशत लोग कुपोषित हैं।

संयुक्त राष्ट्र महासचिव एंटोनियो गुटेरेस ने कहा कि नया "दुखद डेटा" दिखाता है कि दुनिया में करीब 811 मिलियन लोगों को पिछले साल भूख का सामना करना पड़ा, जो 2019 की तुलना में 161 मिलियन अधिक है। 2.3 बिलियन से अधिक लोग, जो वैश्विक आबादी का 30प्रतिशत  का प्रतिनिधित्व करते हैं। रिपोर्ट के अनुसार, साल भर के लिए पर्याप्त भोजन की कमी है।

संयुक्त राष्ट्र प्रमुख ने कहा,"1960 के दशक के मध्य से वैश्विक खाद्य उत्पादन में 300 प्रतिशत की वृद्धि के बावजूद, जीवन प्रत्याशा को कम करने में कुपोषण एक प्रमुख कारक है। बहुतायत की दुनिया में, हमारे पास अरबों लोगों के लिए स्वस्थ आहार तक पहुंच की कमी का कोई बहाना नहीं है। यह अस्वीकार्य है।"

मानवीय संगठन ऑक्सफैम की एमिली फर्र ने कहा कि संघर्ष, आर्थिक झटके और बिगड़ते जलवायु संकट के प्रभाव से पहले से ही पीड़ित लाखों लोगों के लिए महामारी आखिरी तिनका था।

 

रिपोर्ट में कहा गया है कि 5 साल से कम उम्र के 149 मिलियन बच्चों का विकास रुका हुआ है और 45 मिलियन से अधिक बच्चे अपनी लंबाई के हिसाब से कमजोर या बहुत पतले हैं। विडंबना यह है कि लगभग 39 मिलियन बच्चे अधिक वजन वाले थे।

14 July 2021, 16:15