Vatican News
विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस एडनोम गेब्रेयेसुस विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के महानिदेशक डॉ. टेड्रोस एडनोम गेब्रेयेसुस  (AFP or licensors)

वैक्सीन राष्ट्रवाद को रोकने की जरूरत

विश्व स्वास्थ्य संगठन (डब्ल्यूएचओ) के निदेशक ने इस बात हेतु आग्रह किया है कि सभी देशों को कोविद -19 के खिलाफ लड़ाई में मिलकर काम करने की आवश्यकता है।

दिलीप संजय एक्का-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, गुरूवार, 20 अगस्त 2020 (रेई) - संचार माध्यमों को दिये गये अपने एक वाक्तव्य में कहा की कोविड -19 महामारी की चुनौतियों से लड़ने हेतु हमें एक साथ मिलकर कार्य करने की जरूरत है।

अपने बयान में, गेब्रेयेसुस ने इस महामारी की रोकथाम हेतु प्रारंभिक प्रतिक्रिया में कई तार्किक विफलताओं का उल्लेख करते हुए कहा, “आपूर्ति राष्ट्रवाद ने महामारी को बढ़ा दिया और वैश्विक आपूर्ति श्रृंखला को पूर्ण रुपेण प्रभावित किया है।” इसके कारण कई राष्ट्रों में कोरोना वायरस से निपटने के लिए महत्वपूर्ण आपूर्ति की कमी हुई। उन्होंने कहा कि अब भी कई देशों के पास पर्याप्त आपूर्ति नहीं हैं।

सीख मिली

गेब्रेयेसुस ने कहा कि हमें अपनी गलतियों से सीखने की जरूरत है। “देश के नेताओं में पहले अपने लोगों की सुरक्षा की नेक इच्छा है, लेकिन हमें चाहिए कि हम इस महामारी का सामना मिलकर करें।”

उन्होंने कहा, “यह नेक कार्य नहीं है कि देश की पूरी आबादी को बचाने के बदले हम अतिसंवेदनशील लोगों को महामारी से बचाने की कोशिश करें जिससे इस महामारी को अति शीघ्रता से समाप्त किया जा सकें और अर्थव्यवस्था को पुनः पटरी पर उतारा जा सकें। गेब्रेयेसुस ने इस बात पर भी जोर दिया कि हमें वैक्सीन राष्ट्रवाद को रोकने की जरुरत है। “इसके तैयार होने पर हमें इसे बराबार रुप से सहभागी देशों में वितरण करने की जरुरत है जिससे खतरे को कम किया जा सकें, तदोपरांत दूसरे चरण में, उन देशों को उपलब्ध करने की जरुरत है जो अधिक संवेदनशील और खतरे की स्थिति में हैं।

संयुक्त समाधान हेतु एकजुटता

डब्ल्यूएचओ के निदेशक ने कहा कि इसका अर्थ है “ हमें दुनिया में उच्चतम स्तर की योजनाओं को लागू करने की जरूरत है, ताकि दुनिया में टीकाकरण और उपचार तैयार की जा सकें, क्योंकि नई तकनीकें धरतल से आती हैं।”

उन्होंने जोर देकर कहा, “जिस भांति हम विज्ञान को बढ़ावा देते हैं, महामारी के निजात पाने हेतु हमें एकजुटता की आवश्यकता है। संगीतदल की तरह हमें एक साथ, एक सुर और लय में मधुर तान उत्पन्न करते की जरुरत है जो सभों को प्रिय लगते हैं।” उन्होंने कहा कि डब्ल्यूएचओ सभी दलों को एक साथ लाने की कोशिश करेगा जिससे विज्ञान,समाधान और एकता को बढ़वा मिले क्योंकि यह हमारा विश्वास है कि एक साथ मिलकर कार्य करने में हम अपनी उतकृष्टता को प्राप्त करते हैं।

वैक्सीन के बारे में संत पापा

अपने 19 अगस्त के बुधवारीय आमदर्शन में संत पापा फ्रांसिस ने सभों के लिए कोविड-19 वैक्सीन की उपलब्धता के बारे में कहा। महामारी के उपचार की योजना इस रुप में सुनिश्चित की जाये जिससे “सबसे जरुरतमंद को इसका लाभ मिल सके।” यदि इसकी प्राथमिकता सबसे धनी लोगों के लिए दी जाती है तो यह दुःखद बात होगी। “यदि वैक्सीन विश्व में सभों के लिए उपलब्ध होने के बदले देश की संपति या किसी एक की होकर रह जाती तो यह हमारे लिए दुःखद बात होगी।

20 August 2020, 16:06