Vatican News
वैल्यूस मैट्रिक्स का प्रतीक वैल्यूस मैट्रिक्स का प्रतीक  

पोप के परोपकार ग्रीष्मावकाश में भी जारी

पोप के भिक्षादान कार्यालय ने एक विज्ञप्ति जारी कर बतलाया है कि उन्होंने उदार कार्यों को इटली के ग्रीष्मकालीन महीनों में भी जारी रखा, जिसमें खासकर, कैदियों पर ध्यान दिया गया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 9 सितम्बर 2021 (रेई)- ग्रीष्मावकाश के समय भी संत पापा का परोपकारी कार्यालय अवकाश पर नहीं गया।

पोप के परोपकारी कार्यालय के वेबसाईट पर एक बयान जारी की गई है जिसमें कहा गया है कि स्वयंसेवकों ने अन्य बातों के अलावा, "दया के सात कार्यों में से दो: कैदियों से मिलने और पीड़ितों को सांत्वना देने" के लिए खुद को समर्पित करने में समय बिताया।"

कैदियों की मदद

मंगलवार को जारी वक्तव्य में कहा गया है कि चैपलिन के रूप में नियमित सेवा देने के अतिरिक्त संत पापा के परोपकारी विभाग ने मदद करने के सुसमाचारी भाव को प्रकट किया तथा रोम के कैदखाने में रहनेवाले हजारों लोगों को आशा प्रदान की।

संत पापा के परोपकार विभाग के अध्यक्ष कार्डिनल कॉनराड क्राजेवस्की ने रोम के रेजीना चेली और रेबिब्बिया जेल के कैदियों को 15,000 आइसक्रीम प्रदान किया।   

दया के अन्य कार्य

दया के अन्य कार्यों में, भूखों को भोजन खिलाना, प्यासों को पानी पिलाना, नंगे को कपड़े पहनाना, तीर्थयात्रियों एवं अजनबियों को आश्रय प्रदान करना, बीमारों को देखने जाना, उनकी मदद करना और मृतकों को दफनाना आदि कार्य हैं जिनके द्वारा गर्मी के समय में उनकी मदद की गई जबकि कई कैंटीन और उदार केंद्रों ने अपने कार्यों को सीमित कर दिया था। अतः हर साल की तरह बेघर लोगों के छोटे-छोटे दलों को समुद्र तट या झील किनारे और कस्तेल गंदोल्फो आदि स्थलों पर विश्राम के लिए लिया गया और बाहर में शाम का भोजन कराया गया।   

बयान में आगे लिखा है कि दूसरे देशों के सबसे गरीब लोगों को भी निश्चित रूप से भुलाया नहीं गया है। प्रेरितिक राजदूत के माध्यम से "दवाएँ, श्वासयंत्र और चिकित्सा सामग्रियोँ के रूप में वाटिकन से सीधे कूरियर सेवा द्वारा उन लोगों तक मदद पहुँचाया गया।  

अततः वक्तव्य में कहा गया है कि "दया के भौतिक और आध्यात्मिक कार्य  यदि प्रत्येक ख्रीस्तीय पर लागू होते हैं, तो संत पापा के परोपकारी कार्यालय का कार्य और भी अधिक महत्वपूर्ण है।

09 September 2021, 16:40