Vatican News
संत पापा फ्राँसिस कारितास इतालियाना के सदस्यों से मुलाकात करते हए संत पापा फ्राँसिस कारितास इतालियाना के सदस्यों से मुलाकात करते हए  (ANSA)

युवाओं के लिए कारितास जीवन की व्यायामशाला बनें, संत पापा

संत पापा फ्राँसिस ने कारितास इतालियाना के सदस्यों को उनकी 50वीं वर्षगांठ के अवसर पर संबोधित किया और उन्हें सेवा की अपनी यात्रा जारी रखने के लिए तीन मार्ग प्रदान किए।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 26 जून 2021 (वाटिकन न्यूज) : शनिवार को वाटिकन के संत पापा पॉल छठे समागार में कारितास इटालियाना के सदस्यों को संबोधित करते हुए, संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि प्रत्येक सदस्य "कलीसिया का एक जीवित अंग" है। आप "हमारे कारितास" हैं, संत पापा फ्राँसिस ने संत पापा पॉल छठे के हवाले से कहा, जिन्होंने 50 साल पहले संगठन की स्थापना की थी।

संत पापा ने कहा, "संत पापा पॉल छठे ने  द्वितीय वाटिकन महासभा की भावना में उदारता की गवाही को बढ़ावा देने के लिए एक प्रेरितिक संस्था स्थापित करने के लिए इतालवी धर्माध्यक्षीय सम्मेलन को प्रोत्साहित किया, ताकि ख्रीस्तीय समुदाय उदारता का साक्ष्य दे सके। मैं आपके कार्य की पुष्टि करता हूँ: आज के बदलते समय में कई बार कई चुनौतियाँ और कठिनाइयाँ आती हैं, क्षेत्र में जटिल परिस्थितियों के कारण अधिक से अधिक गरीब देखने को मिल रहे हैं।"

संत पापा फ्राँसिस ने कहा कि यह वर्षगांठ एक मील का पत्थर है और उन्होंने तीन मार्गों का संकेत दिया "जिस पर यात्रा जारी रखनी है।

कमजोरों का मार्ग

संत पापा ने कहा कि पहला कमजोरों का मार्ग है, "हम सबसे नाजुक और रक्षाहीन लोगों से शुरू करते हैं। दान वह दया है जो सबसे कमजोर लोगों की तलाश करती है, जो लोगों को उन पर अत्याचार करने वाली दासता से मुक्त करने और उन्हें अपने स्वयं के जीवन का नायक बनाने के लिए सबसे कठिन सीमाओं तक पहुंचती है।" पिछले पांच दशकों में, कई महत्वपूर्ण फैसलों ने कारितास और स्थानीय कलीसिया को इस उदारता का अभ्यास करने में मदद की है।

सुसमाचार का मार्ग

इसके बाद संत पापा फ्राँसिस ने दूसरे अपरिहार्य मार्ग- सुसमाचार के मार्ग पर चर्चा की। संत पापा ने कहा कि यह विनम्र प्रेम की ठोस अभिव्यक्ति है, यह दिखावटी नहीं, लेकिन प्रस्तावित है जो किसी पर भी थोपा नहीं गया है। "यह शर्तहीन प्रेम की शैली है, जो पुरस्कार की तलाश नहीं करती। यह येसु की नकल में उपलब्धता और सेवा की शैली है, जिसने खुद को हमारा सेवक बनाया।" संत पापा फ्राँसिस ने समझाते हुए कहा, "दान समावेशी है" और इसका संबंध केवल भौतिक पहलू से नहीं है, न ही केवल आध्यात्मिकता से है। "येसु का उद्धार पूरे मनुष्य को गले लगाता है।"

संत पापा ने कहा, "सुसमाचार हमें दिखाता है कि येसु हर गरीब व्यक्ति में मौजूद हैं, यह याद रखना हमारे लिए अच्छा है कि हम खुद को कलीसिया में केंद्रित करने वाले प्रलोभन से मुक्त करें और कोमलता और निकटता की कलीसिया बनें, जहां गरीबों को आशीर्वाद दिया जाता है, जहां मिशन केंद्र में है, जहां सेवा करने की खुशी मिलती है।"

रचनात्मकता का मार्ग

संत पापा ने कहा कि तीसरा मार्ग, रचनात्मकता का मार्ग है। इन पचास वर्षों का समृद्ध अनुभव दोहराए जाने वाली चीज नहीं है, यह वह आधार है जिस पर निरंतर निर्माण करना है जिसे संत जॉन पॉल द्वितीय ने दान की कल्पना कहा था। संत पापा ने उपस्थित लोगों से आग्रह किया कि "गरीबों और नई तरह की गरीबी की बढ़ती संख्या से खुद को निराश न होने दें", बल्कि "भाईचारे के सपनों को विकसित करना और आशा के संकेत बनना जारी रखें।"

धन्यवाद

अपने संबोधन को समाप्त करते हुए, संत पापा ने कारितास इटालियाना के कर्मचारियों, पुरोहितों और स्वयंसेवकों के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि महामारी के दौरान उन्होंने "कई लोगों के अकेलेपन, पीड़ा और जरूरतों को दूर किया"। संत पापा ने युवा स्वयंसेवकों को धन्यवाद दिया, यह देखते हुए कि युवा लोग "परिवर्तन के इस युग के सबसे नाजुक शिकार हैं, लेकिन वे युग के परिवर्तन के संभावित वास्तुकार भी हैं।" कई युवाओं की मदद करने के लिए कारितास जीवन का एक व्यायामशाला हो सकता है और इस तरह "कारितास स्वयं युवा और रचनात्मक रहेगा, एक सरल और सीधी नज़र बनाए रखेगा, जो निडर होकर दूसरों की ओर मुड़ता है, जैसा कि बच्चे करते हैं।

26 June 2021, 15:29