Vatican News
वियतनाम की एक बालिका वियतनाम की एक बालिका 

गरिमा के खिलाफ़ है मानव तस्करी, संत पापा फ्राँसिस

संत पापा फ्राँसिस मानव तस्करी पर एक ऑनलाइन संगोष्ठी के लिए एक संदेश भेजते है, वे आधुनिक समय की इस गुलामी को मानव गरिमा के खिलाफ एक अपमान कहते हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी,शनिवार 01 अगस्त 2020 : अर्जेंटीना के काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने हाल ही में मानव तस्करी के खिलाफ विश्व दिवस को चिह्नित करने के लिए एक ऑनलाइन संगोष्ठी का आयोजन किया।

वाटिकन राज्य सचिव कार्डिनल पिएत्रो पेरोलिन द्वारा भेजे गए एक संदेश में, संत पापा फ्राँसिस ने आधुनिक दिनों की दासता को "एक दुर्बलता बताया जो हमारे सबसे कमजोर भाइयों और बहनों की गरिमा को चोट पहुँचाती है।"

संत पापा ने कहा कि दुख की बात है कि हमारी समकालीन दुनिया "एक उपयोगितावादी दृष्टिकोण से सुविधा और व्यक्तिगत लाभ के मानदंडों के अनुसार दूसरों को देखती है। यह स्वार्थी दृष्टिकोण, दूसरों को उनकी अद्वितीय और अप्राप्य मानवता की परिपूर्णता का अनुभव करने से दूर रखता है।"

संकट का उन्मूलन

व्यावसायिक लाभ के लिए इस्तेमाल किए जा रहे लोगों की नाटकीय स्थिति को देखते हुए, संत पापा फ्राँसिस ने सभी को "इस संकट के पूर्ण उन्मूलन के लिए अपनी प्रतिबद्धता" हेतु प्रोत्साहित किया।

उन्होंने "जीवित बचे लोगों की सहायता करने और सामान्य जीवन और मानव जीवन के पूर्ण अहसास की ओर ले जाने वाले निर्माण मार्ग में निर्णायक रूप से सहयोग करने के प्रयासों के लिए अपना समर्थन व्यक्त किया।"

संत पापा ने सेमिनार के प्रतिभागियों को आशीर्वाद देते हुए अपने संदेश को समाप्त किया और लुजैन का माता मरियम के संरक्षण में समर्पित किया।

भेद्यता में वृद्धि

गुरुवार को वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग प्लेटफॉर्म पर "मानव तस्करी के खिलाफ एक आवाज" शीर्षक के तहत सेमिनार का आयोजन किया गया।

600 प्रतिभागियों ने विभिन्न क्षेत्रों का प्रतिनिधित्व किया जो आधुनिक समय की दासता के संकट से लड़ने के लिए काम कर रहे थे। इनमें कलीसिया के प्रतिनिधि, राजनेता, मानवीय कार्यकर्ता और अर्जेंटीना की न्यायपालिका के अधिकारी शामिल थे।

01 August 2020, 13:29