Vatican News
मिस्सा में भाग लेते धर्माध्यक्ष मिस्सा में भाग लेते धर्माध्यक्ष 

संत पापा ने बाल सुरक्षा कार्य दल का गठन किया

कलीसिया में नाबालिगों की सुरक्षा पर पिछली साल हुई सभा में एक योजना की घोषणा की गयी थी, उसी के तहत संत पापा फ्राँसिस ने बाल सुरक्षा दिशा-निर्देश तैयार करने में धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों को मदद करने एक कार्य दल का गठन किया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार, 29 फरवरी 20 (रेई)˸ संत पापा ने एक कार्य दल की स्थापना की है जो नाबालिगों की सुरक्षा पर धर्माध्यक्षीय सम्मेलन को दिशा-निर्देश को तैयार एवं अपडेट करने में मदद देगा। इस तरह के दल के निर्माण की योजना की घोषणा संत पापा फ्राँसिस ने 21-24 फरवरी 2019 को आयोजित सभा में की थी। एक साल बाद, योजना पर विस्तार से काम करने के उपरांत उन्होंने योजना को साकर रूप दिया है।   

पर्यवेक्षण समिति

शुक्रवार को जारी एक वक्तव्य में वाटिकन प्रेस कार्यालय के निदेशक ने कहा कि कार्य दल की निगरानी, वाटिकन राज्य सचिवालय के सामान्य मामलों के लिए स्थानापक महाधर्माध्यक्ष एडगर पेना पार्रा, पिछले साल सभा के आयोजन समिति के साथ करेंगे। आयोजन समिति के सदस्य हैं, मुम्बई के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस, शिकागो के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल ब्लेस कुपिक, विश्वास के सिद्धांत हेतु गठित धर्मसंघ के उप-सचिव एवं माल्टा के महाधर्माध्यक्ष चार्ल्स शिक्लुना तथा नाबालिगों की सुरक्षा के लिए गठित आयोग के सदस्य फादर हंस जोल्लनर येसु समाजी।  

कार्य दल की सदस्यता

कार्य दल के गठन में माल्टा के धर्माध्यक्षों के सुरक्षा आयोग के प्रमुख डॉक्टर अंड्रू अज्जोपारदी को संयोजक नियुक्त किया गया है जबकि दल में विभिन्न देशों के कैनन लॉ विशेषज्ञ भी होंगे। कार्य दल द्वारा किए गए कार्य पर, संयोजक, राज्य सचिवालय के सामान्य मामलों के लिए त्रैमासिक रिपोर्ट पेश करेगा।

धर्माध्यक्षीय सम्मेलन को सहायता

वाटिकन प्रेस कार्यालय द्वारा जारी वक्तव्य में बतलाया गया है कि कार्य दल धर्माध्यक्षीय सम्मेलन और उसके साथ-साथ धर्मसंघी संस्थाओं एवं धर्मसमाजों को, नाबालिगों की सुरक्षा हेतु दिशा-निर्देश तैयार करने एवं उसे अपडेट करने में सहायता प्रदान करेगी, जैसा कि विश्वास के सिद्धांत हेतु गठित धर्मसंघ एवं वर्तमान धर्म- वैधानिक कानून के दिशा-निर्देश में, विशेषकर, मोतु प्रोप्रियो वोस एसतिस लुक्स मुन्दी में कहा गया है।

कार्य दल का कार्यकाल दो साल होगा जो 24 फरवरी 2020 से सक्रिय कहलायेगा। इसे उपकारकों द्वारा स्थापित एक विशेष फंड द्वारा समर्थित किया जाएगा।

धर्माध्यक्षीय सम्मेलन, धर्मसंघ एवं धर्मसमाजी संस्थाएँ इस ईमेल पते पर taskforce@org.va. सहायता की अपील कर सकते हैं।

 

29 February 2020, 17:49