Vatican News
सीरिया के अलेप्पो में ग्रीक ऑर्थोडॉक्स प्राधिधर्माध्यक्ष, पुण्य शुक्रवार की धर्मविधि के दौरान सीरिया के अलेप्पो में ग्रीक ऑर्थोडॉक्स प्राधिधर्माध्यक्ष, पुण्य शुक्रवार की धर्मविधि के दौरान  (AFP or licensors)

सीरिया की काथलिक कलीसियाओं द्वारा सीरियाई लोगों की मदद

कारितास सीरिया एवं अन्य काथलिक संगठन, मध्यपूर्व में अत्याचार के शिकार सीरियाई लोगों की मदद तथा देश के पुनःनिर्माण के लिए कार्य कर रहे हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

सीरिया, बृहस्पतिवार, 20 मई 2021 (वीएनएस)- सीरिया की काथलिक कलीसियाओं की समिति के शीर्ष अधिकारियों ने 18 मई को, अलेप्पो में लातीनी रीति के प्रेरितिक विकारियेट के मुख्यालय में एक सभा में भाग लिया। सभा में सीरिया के लिए प्रेरितिक राजदूत कार्डिनल मारियो जेनारी, सिरो काथलिक प्राधिधर्माध्यक्ष इग्नास योसिफ तृतीया योनान और मेलकाईट ग्रीक काथलिक प्राधिधर्माध्यक्ष यूसेफ अबसी भी उपस्थित थे।

सभा की शुरूआत प्राधिधर्माध्यक्ष योनान ने की जिन्होंने सीरिया और मध्यपूर्व की वर्तमान परिस्थिति पर प्रकाश डाला एवं सीरिया की भयावाह आर्थिक स्थिति की ओर ध्यान आकृष्ट किया। जिसके कारण लोग पलायन के लिए मजबूर हैं खासकर, युवा। जिसे उन्होंने क्षेत्र में "खतरनाक और अमानवीय भू-राजनीतिक दबाव" कहा।

इस पृष्टभूमि पर प्राधिधर्माध्यक्ष ने कलीसिया के समर्थन की आवश्यकता पर जोर दिया, विशेषकर, युवाओं की शिक्षा पर, जिनका विकास संघर्ष के कारण बाधित है। अपने परिचयात्मक भाषण में प्राधिधर्माध्यक्ष अबसी ने नाटकीय सामाजिक विभाजन पर ध्यान दिये जाने की आवश्यकता बतलायी, जो युद्ध के कारण भूखमरी के शिकार सीरियाई लोगों की विशाल आबादी से, कुछ अमीरों को अलग करता है। इस आर्थिक संकट में अब कोविड-19 महामारी भी जुड़ गया है।  

कार्डिनल जेनारी ने अमोरिस लेतित्सिया परिवार वर्ष तथा संत जोसेफ वर्ष पर भी प्रकाश डाला जिनकी घोषणा संत पापा फ्रांसिस ने की है। उन्होंने सीरिया की मानवीय स्थिति को रेखांकित करते हुए सभी लोगों के हित में कारितास सीरिया के समर्थन एवं विकास पर ध्यान देने की आवश्यकता बतलायी। इस संबंध में उन्होंने धार्मिक भेदभाव नहीं करने की परमधर्मपीठ के पहल की याद दिलायी।

 

20 May 2021, 15:21