Vatican News
जैकब ब्लेक की पुलिस शूटिंग के बाद प्रदर्शन जारी जैकब ब्लेक की पुलिस शूटिंग के बाद प्रदर्शन जारी   (AFP or licensors)

केनोशा शूटिंग: नस्लीय अन्याय को अब खारिज नहीं किया जा सकता

मिल्वौकी महाधर्मप्रांत के ब्लैक काथलिक और जातीय कार्यालय के निदेशक, फेस्साहाये मेब्राथु ने विस्कॉन्सिन के केनोशा में एक अफ्रीकी अमेरिकी व्यक्ति, जैकब ब्लेक की 23 अगस्त की पुलिस शूटिंग के मद्देनजर संयुक्त राज्य में नस्लीय तनाव के बारे वाटिकन न्यूज से बातें की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

मिल्वौकी, बुधवार 02 सितम्बर 2020 (वाटिकन न्यूज) : 23 अगस्त को, अमेरिकी राज्य विस्कॉन्सिन में पुलिस अधिकारियों द्वारा एक अफ्रीकी अमेरिकी को एक घरेलू घटना की प्रतिक्रिया में, विरोध प्रदर्शन और न्याय विभाग की जांच के दौरान गोली मार दी गई।

पुलिस की शूटिंग के शिकार, केनोशा के 29 वर्षीय जेकब ब्लेक को मिल्वौकी के फ्रॉड्टर अस्पताल में ले जाया गया, जहाँ उनके घावों की सर्जरी हुई।

सोशल मीडिया पर पोस्ट किए गए एक वीडियो में ब्लेक को दो केनोशा पुलिस विभाग के अधिकारियों के सामने चलते हुए दिखाया गया वे हथियारों से लैस थे। उन्होंने उसे पीछे से शर्ट को पकड़ा था जब उसने एक खड़ी कार का दरवाजा खोला तो उन्होंने करीब से गोली मार दी।

रविवार देर शाम तक प्रदर्शनकारियों की बड़ी भीड़ शूटिंग के विरोध में पूरे सड़कों में भरने लगी।

इस पृष्ठभूमि के खिलाफ, मिल्वौकी महाधर्मप्रांत के लिए ब्लैक काथलिक और जातीय कार्यालय के निदेशक, फेस्साहाये मेब्राथु ने  वाटिकन न्यूज के सिस्टर बेर्नाडेट रीस के साथ बातें कीं। उन्होंने संयुक्त राज्य में नस्लीय तनाव पर चिंतन किया और न्याय को बहाल करने में आर्थिक और सामाजिक कारकों के महत्वपूर्ण प्रभाव पर प्रकाश डाला, विशेष रूप से विस्कॉन्सिन में अफ्रीकी अमेरिकी समुदायों के बीच।

महाधर्मप्रांत के भीतर श्री मेब्राथु का कार्यालय अफ्रीकी, अफ्रीकी अमेरिकी, एशियाई और लैटिन अमेरिकी काथलिक समुदायों को कवर करता है।

नौकरियों की कमी, अव्यवस्था

मेब्राथु के अनुसार, दक्षिण-पूर्वी विस्कॉन्सिन में खासकर मिल्वौकी, केनोशा और रासीन शहरों में अफ्रीकी अमेरिकियों को दो महत्वपूर्ण चुनौतियों का सामना करना पड़ रहा है।  

पहला, बड़े उद्योगों का बंद होना, जो अच्छी-खासी नौकरियां देते थे। बंद होने के कारण कई लोग, बेरोजगार हैं और आर्थिक संकट का सामना कर रहे हैं।

दूसरी बात, मेब्राथु ने बताया, अफ्रीकी अमेरिकी मूल के लोगों के जेल जाने की संख्या बहुत ज्यादा है। इस कारण "समान अवसरों की कमी" है। उन्होंने कहा कि विस्कॉन्सिन राज्य में छह प्रतिशत आबादी अफ्रीकी अमेरिकी है, उस संख्या का 70 से 80 प्रतिशत मिल्वौकी, केनोशा और रासीन के आसपास के क्षेत्रों में रहते हैं। , जेल में 50 से 60 प्रतिशत लोग अफ्रीकी अमेरिकी हैं और जेल से निकलने के बाद, इन लोगों को नौकरी मिलना और समाज में वापस फिट होना मुश्किल लगता है।

उन्होंने कहा कि  इन दो कारणों के परिणामस्वरूप इन क्षेत्रों में पुलिस के आक्रामक गतिविधियों में वृद्धि हुई है जो दुर्भाग्य से कभी-कभी तनाव पैदा करता है।

अमेरिका में धर्माध्यक्षों ने भी जेकब ब्लेक की शूटिंग के मद्देनजर 9 सितंबर को संत पीटर क्लेवर की पर्व दिन नस्लवाद के खिलाफ प्रार्थना और उपवास में भाग लेने के लिए सभी विश्वासियों को आमंत्रित किया है।

भविष्य की आशा

मेब्राथु ने उम्मीद जताई कि संयुक्त राज्य में नस्लीय तनाव के बारे में जागरूकता बढ़ने से स्थायी समाधान निकलेगा।

उन्होंने कहा कि वर्तमान स्थिति "टिकाऊ नहीं है" और "उस समुदाय के लिए अच्छा नहीं है जो सीधे प्रभावित होता है और राष्ट्र के लिए भी।"

मेब्राथु ने स्वीकार किया कि नस्लीय न्याय के मुद्दों को हल करने के लिए और अधिक काम करने की आवश्यकता है क्योंकि वे किसी भी समय खारिज नहीं किए जा सकते हैं और देश के भाग्य के लिए महत्वपूर्ण हैं।

मेब्राथु ने कहा, "हम ईश्वर में विश्वास करते हैं और कठिनाई में भी हमें धैर्य और आशा के साथ आगे बढ़ना चाहिए।"

02 September 2020, 15:27