Vatican News
थाईलैंड में प्रेरितिक यात्रा के दैरान एफएबीसी के धर्माधय्क्षों से मुलाकात करते संत पापा थाईलैंड में प्रेरितिक यात्रा के दैरान एफएबीसी के धर्माधय्क्षों से मुलाकात करते संत पापा  (Vatican Media)

महामारी के कारण एशियाई धर्माध्यक्षों की सभा स्थगित

एशियाई काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों के संघ (एफएबीसी) ने अपने सदस्यों को जानकारी दी है कि आगामी नवम्बर में होनेवाली आमसभा को स्थगित कर दिया गया है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

एशिया, मंगलवार, 5 मई 2020 (वीएन)-एशियाई काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों के संघ ने अपने सदस्यों को सूचना दी है कि स्थिति स्थिर नहीं होने के कारण सम्मेलन को स्थगित कर दिया गया है जिसका आयोजन 3-20 नवम्बर को थाईलैंड के बान फू वान में किया गया था। भविष्य में महासभा के आयोजन की कोई तिथि नहीं बतलायी गयी है।

सदस्यों को प्रेषित पत्र में कहा गया है कि एफएबीसी की केंद्रीय समिति एवं कार्यालय की सभा जून में होनेवाली थी किन्तु उसे भी स्थगित कर दिया गया है। पत्र पर एफएबीसी के अध्यक्ष, म्यानमार के कार्डिनल चार्ल्स मौंग बो और सभा के संयोजक, मुम्बई के महाधर्माध्यक्ष कार्डिनल ऑस्वल्ड ग्रेसियस का हस्ताक्षर है।

संकट में संबंध एवं विश्वास का गहरा महत्व

सम्मेलन के अधिकांश सदस्य देश, अब भी लॉकडाउन में हैं किन्तु 2 अप्रैल को प्रेषित पत्र में कहा गया है कि वे आधुनिक दुनिया के इतिहास में इस अंधकारमय समय से गुजरते हुए भी संबंध के गहरे महत्व को महसूस करते हैं।

एफएबीसी के संचालकों ने गौर किया है कि इस समय हम ईश्वर पर अधिक आश्रित एवं विश्वास में मजबूती का अनुभव करते हैं।

वे आशा व्यक्ति करते हैं कि इस संकट से अधिक गहरी धार्मिक भावना के साथ सभी बाहर आ पायेंगे।

एशियाई क्षेत्र में स्वास्थ्य आपातकाल के कारण बाधाओं के बावजूद, एफएबीसी योजना और आमसभा के लिए कुछ क्षेत्रीय बैठकें पहले ही आयोजित की जा चुकी थीं।

अस्थिरता के बीच आशावाद

सम्मेलन के सदस्य एक साथ नहीं आ सकते, अतः कार्डिनल बो और कार्डिनल ग्रेसियस ने वीडियो कॉफ्रेस के माध्यम से सदस्यों से सम्पर्क करने का प्रयास किया है और इसके द्वारा कई चिंतन एवं विचार किये जा चुके हैं किन्तु स्थिति अस्थिर है और कोई नहीं जानता कि कल क्या लायेगा। उन्होंने उम्मीद जतायी है कि जब चीजें सामान्य हो जायेंगी तब वे अपने भावी कार्यक्रमों को आगे बढ़ा पायेंगे।

एफएबीसी 19 काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलनों एवं दक्षिण, दक्षिण पूर्वी, पूर्वी और मध्य एशिया के 8 सहयोगी सदस्यों का एक संघ है, जिसका उद्देश्य है एकात्मता को बढ़ावा देना एवं महादेश में कलीसिया एवं समाज की अच्छाई और कल्याण के लिए अपने सदस्यों के बीच सह-सहयोगिता रखना।

संघ का 50वाँ वर्षगाँठ

संघ की स्थापना नवम्बर 1970 को हुई थी, जब एशिया के 180 काथलिक धर्माध्यक्ष संत पापा पौल छटवें की प्रेरितिक यात्रा के दौरान, फिलीपींस की राजधानी मनिला में जमा हुए थे। उस अवसर पर संत पापा ने 28 नवम्बर 1970 को धर्माध्यक्षों को सम्बोधित किया था।

थाईलैंड में नवम्बर 2019 को अपनी प्रेरितिक यात्रा के दौरान संत पापा फ्राँसिस ने एफएबीसी के धर्माध्यक्षों से बैंकॉक में मुलाकात की थी। उन्होंने गौर किया था कि 50वाँ वर्षगाँठ, मिशनरियों के मूल स्थान पर स्थापित तीर्थस्थल का पुनः दर्शन करने का उपयुक्त अवसर होगा। जिसके द्वारा एशिया की कलीसिया एवं समाज नवीनीकरण एवं सुसमाचारी पहुँच के द्वारा लाभ प्राप्त कर सकेंगे।

05 May 2020, 16:10