Vatican News
पवित्र संस्कार को हाथ में लिए संत पापा फ्राँसिस पवित्र संस्कार को हाथ में लिए संत पापा फ्राँसिस   (ANSA)

कास्तेल बेरतोने में कोरपुस ख्रीस्ती मनायेंगे संत पापा

23 जून को कोरपुस ख्रीस्ती (ख्रीस्त के पावन शरीर एवं रक्त) का महापर्व मनाया जाएगा, जिसमें पवित्र संस्कार का जुलूस किया जाएगा। पिछले साल संत पापा फ्राँसिस ने कोरपुस ख्रीस्ती का महापर्व ओस्तिया पल्ली में मनाया था। इस वर्ष वे कास्तेल बेरतोने में मनायेंगे।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, मंगलवार, 11 जून 2019 (रेई)˸ ख्रीस्त के पावन शरीर और रक्त के महापर्व के उपलक्ष्य में 23 को संत पापा फ्राँसिस, कास्तेल बेरतोने के निकट माता मरियम दुखियों की दिलासा गिरजाघर के परिसर पर शाम 6.00 बजे ख्रीस्तयाग अर्पित करेंगे।

वाटिकन प्रेस कार्यालय के अद अंतरिम निदेशक अलेसांद्रो जिसोत्ती ने मंगलवार को इस बात की पुष्टि दी तथा कहा कि यूखरिस्त समारोह के उपरांत पवित्र संस्कार का जुलूस किया जाएगा, जिसके अंत में संत पापा सभी विश्वासियों को आशीर्वाद प्रदान करेंगे।

ओस्तिया में कोरपुस ख्रीस्ती, स्वर्ग का आरक्षण है यूखरिस्त

संत पापा पौल षष्ठम ने 50 वर्षों पहले जैसा किया था, संत पापा फ्राँसिस ने ठीक उसी तरह 2018 में ओस्तिया के संत मोनिका पल्ली परिसर में कोरपुस ख्रीस्ती के अवसर पर समारोही ख्रीस्तयाग अर्पित किया था। प्रवचन में उन्होंने इस बात पर जोर दिया कि पवित्र यूखरिस्त, भविष्य में आने वाले महान आशा का पूर्वानुभव है। यह स्वर्ग का आरक्षण है।"  

संत पापा ने कहा था कि येसु हमारे लिए एक स्थान एवं भोज तैयार करते हैं। वे हमें भी उस भोज की तैयारी करने का निमंत्रण देते हैं। उस तैयारी में भाग लेने के लिए हमें अपने शहरों और गाँवों में निकलने की आवश्यकता है। ओस्तिया का अर्थ है प्रवेश। संत पापा ने निमंत्रण दिया था कि हम जरूरतमंद लोगों के लिए अपने द्वार खुला रखें क्योंकि येसु चाहते हैं कि हम उदासीनता एवं मौन की दीवार को ढाह दें तथा न्याय द्वारा शोषण और अत्याचार के रास्ते को तोड़ डालें।      

11 June 2019, 16:35