खोज

Vatican News
कापितल हिल में नये राष्ट्रपति जो बिडेन के शपथ ग्रहण समारोह की तैयारी कापितल हिल में नये राष्ट्रपति जो बिडेन के शपथ ग्रहण समारोह की तैयारी  

संयुक्त राज्य अमेरिका में घाव भरने का समय

वाशिंगटन डी.सी. में संयुक्त राज्य अमेरिका के 46 वें राष्ट्रपति जो बिडेन 20 जनवरी को शपथ ग्रहण कर रहे हैं हैं। डोनाल्ड ट्रम्प द्वारा राष्ट्रपति पद के लिए चुनाव लड़ने और कैपिटल हिल पर नाटकीय हमले के बाद उनकी अध्यक्षता में अमेरिका के सामाजिक ताने-बाने में बदलाव लाने की जरुरत है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाशिंगटन डीसी, बुधवार 20 जनवरी 2021 (वाटिकन न्यूज) : कैपिटल हिल पर हमले के दौरान 6 जनवरी को जो हुआ, उससे संयुक्त राज्य अमेरिका अभी भी हिला हुआ है, जिसके परिणामस्वरूप 5 लोगों की मौत हो गई। यह एक अभूतपूर्व घटना थी जिसने अमेरिकी समाज में मौजूद विभाजनों को नाटकीय रूप से प्रकट किया और जो राजनीतिक आयाम से परे थे। हाल के वर्षों में यह ध्रुवीकरण गहरा गया है और कई पर्यवेक्षकों का कहना है कि जल्दी में इसके गायब होने की संभावना नहीं है।

अमेरिका एकजुट

इसलिए, यह कोई संयोग नहीं है कि उनके शपथ ग्रहण समारोह के लिए नए राष्ट्रपति जो बिडेन द्वारा चुना गया विषय "अमेरिका एकजुट" है। राष्ट्रीय एकता के लिए इसकी आवश्यकता अमेरिकियों द्वारा पूरे देश में व्यापक रूप से महसूस की जाती है, जिनमें से बहुत से लोग जानते हैं कि केवल एकजुट होने से महामारी और गंभीर आर्थिक संकटों का सामना करना संभव होगा।

अमेरिकी लोकतंत्र अद्वितीय

संत पापा फ्राँसिस ने हमेशा राष्ट्र के हथियारों के शिलालेख पर अंकित अमेरिकी एकता के मूल्य पर जोर दिया है: ई प्लुरिबस यूनम। 2015 में अपनी प्रेरितिक यात्रा के दौरान कांग्रेस के संयुक्त सत्र को संबोधित करने वाले वे पहले परमाध्यक्ष थे। उस अवसर पर, उन्होंने अपने भाषण में अब्राहम लिंकन, डोरोथी डे, थॉमस मर्टन और मार्टिन लूथर किंग जूनियर जैसे दिग्गजों के माध्यम से रेखांकित किया कि अमेरिकी लोकतंत्र अद्वितीय है। उस भाषण के पांच साल बाद 10 जनवरी को देवदूत प्रार्थना के बाद, चार दिन पहले कैपिटल हिल पर हुई हिंसा पर दुख प्रकट करते हुए संत पापा फ्राँसिस ने हमेशा लोगों को विघटनकारी प्रवृत्तियों को अस्वीकार करने एवं सामंजस्य और एकता के लिए धैर्य और साहस के साथ काम करने हेतु प्रोत्साहित किया।

संत पापा का संदेश

गौरतलब है कि मार्टिन लूथर किंग दिवस पर कल भेजे गए एक संदेश में संत पापा ने अमेरिकियों को अफ्रीकी-अमेरिकी नेता के सपने की ओर "वापस" जाने का आग्रह किया। संयुक्त राज्य अमेरिका को "सद्भाव और समानता" के उस अधूरे सपने को साकार करने की आवश्यकता है। एक सपना जो "हमेशा प्रासंगिक बना रहता है" और वास्तव में उस देश में और भी जरूरी हो जाता है जहां महान आर्थिक अवसरों के बावजूद, अन्याय और सामाजिक संघर्ष रहते हैं, जो अब महामारी से भी ग्रस्त हो गए हैं। इसलिए, यह समय है कि हम पर "हमें" हावी होने दें, घावों को ठीक करने के लिए और उन सिद्धांतों के आधार पर नए सिरे से एकता को लाये, जिन्होंने हमेशा अमेरिकी लोकतंत्र को बनाए रखा है और इसे अंतरराष्ट्रीय परिदृश्य पर एक नायक बनाया है।

यह राष्ट्रीय सामंजस्य का सवाल है विशेषकर राष्ट्रपति जो बिडेन की अध्यक्षता के पहले चरण में सबसे कठिन चुनौती होगी। कुछ लोगों का कहना है कि उपराष्ट्रपति कमला हैरिस के साथ शुरू होने वाले प्रशासन के घटक कभी इतने बहुपक्षीय नहीं रहे हैं। अमेरिकी समाज के आंतरिक "उपचार" के अलावा, बाहरी मोर्चा भी है, जिस पर दूसरे देशों की नजरें केंद्रित है। एकतरफा फैसलों या द्विपक्षीय समझौतों द्वारा अक्सर चिह्नित किए जाने के बाद, वास्तव में, विदेश नीति में बहुपक्षवाद के लिए "वापसी" और अंतर्राष्ट्रीय संगठनों के साथ विश्वास के संबंध, यूएन के साथ शुरू होने की बड़ी उम्मीदें हैं। इस दिशा में कुछ कदम हाल के हफ्तों में घोषित किए गए हैं, जैसे कि संयुक्त राज्य अमेरिका की पेरिस जलवायु समझौते में वापसी। यह कदम संत पापा फ्राँसिस की 'लौदातो सी’ में व्यक्त किए गए हमारे सामान्य घर की देखभाल के पक्ष में प्रतिबद्धता के साथ है।

ठोस प्रयास

जैसा कि जो बिडेन ने संयुक्त राज्य अमेरिका के 46 वें राष्ट्रपति के रूप में शपथ ग्रहण कर रहे हैं, हाल के दिनों में कैपिटल हिल पर जो हुआ है, वह हमें याद दिलाता है कि लोकतंत्र और इसकी संस्थाएं कीमती हैं और उन्हें बस यूँही नहीं लेना चाहिए क्योंकि वे इतने लंबे समय से अस्तित्व में हैं ।

यह जागरूकता केवल एक कथन नहीं रहनी चाहिए - लेकिन ‘फ्रातेल्ली तुत्ती’ के हवाले से - सभी स्तरों पर एक ठोस प्रयास की आवश्यकता है। इसके लिए न केवल राजनीतिक नेताओं से, बल्कि सभी लोगों से और उनके आंदोलनों से, आम भलाई को बढ़ावा देने और लोकतंत्र को मजबूत करने के लिए एक प्रतिबद्धता की आवश्यकता है। यह आज और भी अधिक सच है, एक ऐतिहासिक अवधि में अभिकेन्द्रीय बलों और राष्ट्रवादी हितों के बावजूद, महामारी ने नाटकीय रूप से दिखाया है कि "कोई भी अकेले नहीं बच सकता है"।

20 January 2021, 15:24