खोज

Vatican News
जहरीली शराब के कारण मौत के शिकार लोगों के प्रियजन शोक मनाते हुए जहरीली शराब के कारण मौत के शिकार लोगों के प्रियजन शोक मनाते हुए  (AFP or licensors)

ज़हरीली शराब से मरनेवालों के प्रति कलीसिया की संवेदना

पंजाब में ज़हरीली शराब से 104 लोगों की मौत पर भारत के ख्रीस्तीय धर्मगुरू सदमे में हैं।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

भारत, मंगलवार, 4 अगस्त 2020 (ऊकान) – राज्य के अधिकारियों ने 2 अगस्त को मीडिया को बताया कि तरनतारन में 78, अमृतसर में 12 और बटाला में 11 लोगों की मौत हुई है।

मुम्बई के ससम्मान सेवानिवृत सहायक धर्माध्यक्ष एवं जलांधर धर्मप्रांत के प्रेरितिक प्रशासक अंजेलो रूफिनी ग्रेसियस ने ऊका समाचार को बतलाया, "यह एक त्रासदी है जिसको अधिकारियों द्वारा अधिक सतर्कता बरतकर, आसानी से रोका जा सकता था। यह एक मानव निर्मित त्रासदी है। शोकित परिवारों को हमारी हार्दिक संवेदना जिन्होंने अपने प्रियजनों को खो दिया है।"

उन्होंने कहा, "यह भी दुखद है कि जब देश कोविद -19 से लड़ रहा है, तो मुनाफाखोर आम लोगों की ज़िन्दगी को जोखिम में डालकर उन्हें जहरीली चीजें खिला रहे हैं। यह स्पष्ट नहीं है कि कोई ख्रीस्तीय परिवार भी इस त्रासदी का शिकार हुआ है।"

इस बीच, पुलिस अधिकारियों ने न्यू इंडियन एक्सप्रेस अखबार को बताया कि तरनतारन का एक शख्स अवैध शराब के रैकेट को सलाखों के पीछे से नियंत्रित कर रहा था। उन्होंने उनकी पहचान गुरपाल सिंह के रूप में की है, जो पंजाब राज्य के दूसरे शहर कपूरथला की जेल में सजा काट रहा था। उन्होंने कहा कि प्रारंभिक जांच से पता चला है कि सिंह का संगठन पड़ोसी राज्य उत्तर प्रदेश से पंजाब में शराब की तस्करी कर रहा था।

शराब को मिथाइल अल्कोहल से बनाया गया था और उन तीन जिलों में वितरित किया गया था जहां मौतें हुई हैं। यह इतना तेज था कि कम से कम 10 बार पानी मिलाने के बाद भी इसे हानिकारक पाया गया।

इस बीच, विपक्षी आम आदमी पार्टी (आप) ने मौतों की न्यायिक जाँच के लिए राज्य भर में कई विरोध प्रदर्शन किए। प्रदर्शनकारियों ने राज्य सरकार पर “घोर लापरवाही” का आरोप लगाया, जिसके कारण गरीब परिवारों से आनेवाले अधिकांश पीड़ितों की मृत्यु हो गई।

राज्य के मुख्यमंत्री अमरिंदर सिंह ने कहा कि उन्होंने मामले की मजिस्ट्रियल जांच के आदेश दिए हैं और सात उत्पाद शुल्क अधिकारी और छह पुलिस अधिकारियों को निलंबित करने की घोषणा की है। उन्होंने पुलिस और उत्पाद शुल्क विभाग की विफलता को अवैध शराब के निर्माण और बिक्री को रोकने के लिए "शर्मनाक" कहा।

04 August 2020, 15:52