खोज

Vatican News
काठमांडू के एक मस्जिद में नमाज पढ़ता हुआ एक मुस्लिम काठमांडू के एक मस्जिद में नमाज पढ़ता हुआ एक मुस्लिम  (AFP or licensors)

कोरोना वायरस लॉकडाउन के बीच रमजान शुरू

मुस्लिमों का पवित्र महीना रमजान चल रहा है, हालांकि कोविद -19 महामारी के प्रसार को रोकने के उपायों के कारण मध्य पूर्व के पवित्र स्थल वीरान हैं।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, शनिवार 25 अप्रैल 2020 (वाटिकन न्यूज) : शुक्रवार से मुसलमानों का पवित्र महीना रमज़ान शुरू हुआ। जुमे के दिन से रमज़ान की शुरुआत होने से इसकी अहमियत और भी बढ़ गई। लेकिन कोरोना के कारण पूरी दुनिया में लॉकडाउन है। मस्जिद खाली पड़े हैं। परंपरा के अनुसार मस्जिदों में नमाज अदा करने के बजाय लोग अपने घरों में अलग-थलग नमाज पढ़ने के लिए मजबूर हैं।

दुनिया के 1.8 बिलियन मुस्लिम एक महीने उपवास और प्रार्थना की अवधि को समायोजित कर रहे हैं, क्योंकि मस्जिदें बंद हैं और शाम को होने वाली सामूहिक दावतें भी निजी हो गई हैं।

संशोधित लॉकडाउन

कुछ देशों ने कर्फ्यू में संशोधन किया है ताकि लोगों को भोजन की खरीदारी करना आसान हो सके।

मिस्र की सरकार और अधिक व्यवसायों को फिर से खोलने की अनुमति दे रही है और सुपरमार्केट और व्यवसाय सप्ताहांत तक खुले रह सकते हैं।

अल्जीरिया भी कुछ जिलों में सीमित निर्देश और कर्फ्यू को कम कर रहा है।

गाजा पट्टी में, सभी मस्जिदें पवित्र महीने में बंद रहेंगी।

तुर्की में कोरोना के कहर को रोकने के लिए चार दिनों का कर्फ्यू लगाया गया है। इस कारण देश भर में मस्जिद बंद कर दिए गए हैं जिनमें इस्तांबुल का अय्यूब सुल्तान मस्जिद बी शामिल है।

सोशल डिस्टेंसिंग 

दुनिया का सबसे अधिक आबादी वाला मुस्लिम राष्ट्र इंडोनेशिया में वायरस को रोकने के लिए प्रांतों के बीच सभी गैर-आवश्यक यात्रा पर प्रतिबंध लगा दिया गया है। इंडोनीशिया के पूर्वी जावा प्रांत की एक मस्जिद में लोग मस्जिदों में इकट्ठा हुए और सोशल डिस्टेंसिंग का ध्यान रखते हुए नमाज़ पढ़ी।

हालांकि, रिपोर्टों से पता चलता है कि पाकिस्तान के कराची की एक मस्जिद, जहां सोशल डिस्टेंसिंग का पूरा ध्यान रखते हुए लोगों ने रमज़ान के पहले दिन जुमे की नमाज़ पढ़ी।

25 April 2020, 14:55