खोज

Vatican News
बगदाद में विरोध प्रदर्शन बगदाद में विरोध प्रदर्शन  (ANSA)

इराक में उच्च तनाव: देश में तख्तापलट का खतरा

इराक में, अस्थिरता की स्थिति जारी है। ग्रीन ज़ोन में कल तीन रॉकेटों के विस्फोट के बाद, सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी हैं, जिसमें कई के मारे जाने की खबर मिली है।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

दावोस, बुधवार 22 जनवरी 2020 (वाटिकन न्यूज) : बगदाद और अन्य इराकी शहरों में  हुए प्रदर्शनों के दौरान हुई झड़पों में कई लोगों की मौत हुई और कई लोग घायल हो गये। अक्टूबर के बाद से, खाड़ी देश के दक्षिण-मध्य क्षेत्र में बड़े पैमाने पर सरकार विरोधी प्रदर्शन जारी है। देश के नागरिक सड़कों पर उतर आये हैं और भ्रष्टाचार समाप्त करने तथा अधिक सामाजिक सेवाओं को शुरु करने की मांग कर रहे हैं।

वाटिकन संवाददाता जॉनकारलो ने इंस्टीट्यूट फॉर ग्लोबल स्टडीज के निदेशक निकोला पेडे के साथ हुए साक्षात्कार में बताया कि, पर्यवेक्षकों के अनुसार, इराक में तख्तापलट की आशंका बढ़ गई है। तीन महीनों में, लगभग 500 लोग मारे गए और 20,000 से अधिक घायल हो गए। कर्बला में मंगलवार 21 जनवरी को सबसे गंभीर झड़प हुई। इराकी सुरक्षा बलों ने सुबह प्रदर्शनकारियों पर गोलियां चलाईं और कम से कम दो लोगों को मार डाला। इसके साथ शाम तक मरने वालों की संख्या छह हो गई।

स्थानीय सूत्रों के अनुसार, मंगलवार सुबह राजधानी में गंभीर झड़पें हुईं, जिसमें छह घायल बताए जा रहे हैं। आंतरिक तनाव कल के हमलों के साथ और गंभीर होता जा रहा है। रॉकेट का प्रक्षेपण संभवतः अमेरिकी राजनयिक मुख्यालय में किया गया था, जहां अलार्म सायरन लंबे समय तक बजा।

सरकार विरोधी प्रदर्शन 

इस समय विभिन्न इराकी सामाजिक समूहों द्वारा सरकार विरोधी प्रदर्शन युद्धस्तर पर हैं। इनमें सेना के कई दल भी शामिल हैं, जहाँ असंतोष दिनोंदिन बढ़ता जा रहा है। संभवतः यह पहलू संभावित तख्तापलट का सुझाव दे सकता है। निदेशक निकोला पेद्दे के अनुसार, इराक में जारी विरोध समाज के आधार में उत्पन्न होता है, जो सभी नागरिकों की सुरक्षा और सामाजिक अवसर प्रदान करने में सक्षम नीति की मांग करता है। इराक एक संस्थागत दृष्टिकोण से इतना कमजोर है कि वह अन्य संकटों के प्रभाव को झेलता है जो मध्य पूर्व को भड़काते हैं, जैसे कि सीरिया, संयुक्त राज्य अमेरिका और ईरान के बीच टकराव; वे पहलू जो लगभग तीस वर्षों के संघर्ष और कट्टरपंथी आतंकवाद के प्रसार से जूझ रहे देश को अस्थिर कर सकते हैं।

22 January 2020, 16:05