खोज

Vatican News
यौन दुराचार के विरोध में प्रदर्शन यौन दुराचार के विरोध में प्रदर्शन  (ANSA)

उत्तर-पूर्व भारत में स्कूल ने महिलाओं की सुरक्षा के लिए दौड़ लगा

अरुणाचल प्रदेश राज्य में न्यूमैन स्कूल के छात्रों ने देश में महिलाओं के खिलाफ हिंसा और आक्रोश के खिलाफ जागरूकता और कार्रवाई के लिए दौड़ लगाकर अपना वार्षिक खेल दिवस मनाया।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

अरुणाचल प्रदेश, शनिवार 07 दिसम्बर 2019 (वाटिकन न्यूज) : भारत भर में महिलाओं के खिलाफ बढ़ते अपराधों के मद्देनजर, उत्तर-पूर्व भारत के दूरदराज गाँव में बच्चों ने बुधवार को एक दौड़ लगाई और देश में महिलाओं की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए जागरूकता और कार्रवाई का आह्वान किया।

महिलाओं के खिलाफ अपराध की संख्या बढ़ रही है। हर दिन सुबह महिलाओं के खिलाफ अत्याचार के बारे में निराशाजनक खबरें आती हैं। इस समय देश दक्षिण दिल्ली में 2012 के प्रकरण से उबरता हुआ दिखाई दे रहा था, जिसमें एक युवती के साथ सामूहिक बलात्कार, मारपीट और मौत शामिल थी, कि इसी तरह की घटनाएं देश भर में फिर से होती जा रही हैं।

भारत की नवीनतम घटना, हैदराबाद के दक्षिणी शहर में 27 वर्षीय पशु चिकित्सक की सामूहिक बलात्कार और नृशंस हत्या और राजस्थान में एक स्कूली बच्चे की हत्या के बारे में है। अरुणाचल प्रदेश में चांगलांग जिले के नेओतान गांव में न्यूमैन स्कूल के प्रिंसिपल फादर फेलिक्स अंतोनी ने टिप्पणी करते हुए कहा कि ये घटनायें हमें सोचने को मजबूर कर रही हैं कि हमारा देश महिलाओं और बच्चों के लिए असुरक्षित हो गया है?

स्कूल की वार्षिक खेल दिवस के अंत को चिह्नित करने वाली दौड़ का उद्घाटन करते हुए उन्होंने कहा, “आज आपका दौड़ना इस समस्या को हल नहीं कर सकता है। हालांकि, आपका कार्य भारत में महिलाओं के लिए एक सुरक्षित समाज बनाने की दिशा में काम करने के लिए आपके बीच जागरूकता फैलाएगा।”

3 किलोमीटर के मिनी मैराथन में 200 बच्चों ने भाग लिया, जो नम्पहाई  में गवर्नमेंट हायर सेकेंडरी स्कूल से शुरू हुआ और न्यूमैन स्कूल नियोतन में समाप्त हुआ। कक्षा चार से कक्षा दस तक के छात्रों ने दौड़ में भाग लिया। दौड़ सुबह 5.30 बजे शुरु किया गया। सुबह होने के बावजूद, सभी ने एक महत्वपूर्ण उद्देश्य के लिए दौड़ में भाग लेने हेतु उत्साह दिखाया।

मैराथन जीतने वाले दसवें क्लास के वांगथन चित्हान ने कहा, "मैं इस दौड़ के लिए आज सुबह 4 बजे उठा हूं"। "इस  दौड़ के उद्देश्य ने मुझे प्रेरित किया था।”

दौड़ के अंत में सबसे कम उम्र के प्रतिभागी गिदोन खिमुन ने कहा,“मैं महिलाओं के रहने के लिए एक बेहतर देश बनाने के लिए आगे बढ़ूँगा।”

07 December 2019, 15:19