खोज

Vatican News
कंधमाल के 7 बेगुनाह कंधमाल के 7 बेगुनाह 

सुप्रीम कोर्ट ने कंधमाल के पांच ‘बेगुनाहों’ को दी जमानत

भारत के संविधान दिवस ने ओडिशा के कंधमाल के पांच "निर्दोष लोगों" के लिए अच्छी खबर लाई है, जो एक हिंदू धार्मिक नेता की हत्या के मामले में एक दशक से अधिक समय से जेल में बंद थे।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

नई दिल्ली, बुधवार 27 नवम्बर 2019 (मैटर्स इंडिया) : “स्वामी लक्ष्मणानंद (सरस्वती) की हत्या के झूठे आरोपों में जेल में बंद 7 में से 5 मासूमों को सुप्रीम कोर्ट से जमानत मिल गई। दो को इस साल के शुरु में ही जमानत मिल गई थी, ए सी माइकल ने 26 नवंबर को बताया कि “एलायंस डिफेंडिंग फ़्रीडम (एडीएफ) की भारतीय यूनिट ने कंधमाल के 7 मासूमों की कानूनी लड़ाई में मदद की है।

एडीएफ एक ऐसा संगठन है जो ख्रीस्तीयों के अधिकारों का बचाव करता है, मौलिक स्वतंत्रता और मानवीय गरिमा की रक्षा करता है।

23 अगस्त 2008 की रात कंधमाल गाँव में विश्व हिंदू परिषद के एक नेता स्वामी सरस्वती की हत्या के आरोप में इन सात को आजीवन कारावास की सजा दी गई थी।

हालांकि, ओडिशा के जंगलों में सक्रिय माओवादी चरमपंथियों ने हत्या की जिम्मेदारी ली थी। हिंदू चरमपंथी समूहों ने हत्या के विरोध में अभूतपूर्व ईसाई विरोधी उत्पीड़न का इस्तेमाल किया जिसमें 100 से अधिक लोग मारे गये और 50,000 स्थानीय ईसाइयों को विस्थापित होना पड़ा।

अडीइफ और कई कानूनी विशेषज्ञों का कहना है कि सात ईसाईयों को हिंदू कट्टरपंथियों के आरोप का समर्थन करने के लिए झूठे आरोप में फंसाया गया था कि ईसाई समूहों ने स्वामी सरस्वती की हत्या की साजिश रची थी।

पांचों की जमानत 26 नवंबर को मिली, इस दिन को भारतीय संविधान दिवस के रूप में मनाया जाता है। भारत की संविधान सभा ने 70 साल पहले इसी दिन संविधान का प्रारुप तैयार किया था।

2013 में में दो न्यायाधीशों के तबादले के बाद सात निर्दोषों को अचानक दोषी ठहराया गया था। जबकि उनकी जमानत याचिका ओडिशा उच्च न्यायालय, कटक द्वारा दिसंबर 2018 में अंतिम रूप से दो बार खारिज कर दी गई थी, सजा के खिलाफ उनकी अपील ओडिशा उच्च न्यायालय में पांच साल से अधिक समय से पड़ी है।

27 November 2019, 16:13