खोज

Vatican News
बोलीविया में विरोध प्रदर्शन बोलीविया में विरोध प्रदर्शन  (AFP or licensors)

चुनाव में बोलीविया के धर्माध्यक्षों द्वारा पारदर्शिता का आग्रह

बोलीविया काथलिक धर्माध्यक्षीय सम्मेलन ने चुनावी अधिकारियों से मतगणना प्रक्रिया को "पारदर्शी" बनाने की मांग की है। 20 अक्टूबर के राष्ट्रपति चुनाव में कथित धोखाधड़ी के बाद देश में जारी दंगे को देखते हुए धर्माध्यक्षों ने अपील की।

माग्रेट सुनीता मिंज-वाटिकन सिटी

बोलीविया, बुधवार 06 नवम्बर 2019 (वाटिकन न्यूज) : "सत्य और न्याय के साथ समझ और शांति" नामक एक बयान में, काथलिक धर्माध्यक्षों ने देश में दंगे और अशांति की वर्तमान स्थिति के लिए गहरी चिंता व्यक्त की।

31 अक्टूबर को दिया गया बयान,  समाज को खत्म करने वाली हिंसा को समाप्त करने के लिए कहता है और संघर्ष को हल करने के लिए पक्षों के बीच बातचीत को प्रोत्साहित करता है।

धर्माध्यक्षों ने कहा, "हम नेताओं और राजनेताओं से आग्रह करते हैं कि वे लोगों को सुनें और लोकतंत्र की रक्षा करें। यही एकमात्र प्रणाली है जो स्वतंत्रता, सामान्य हित और विकास की गारंटी दे सकती है।"

आधिकारिक संशोधन

धर्माध्यक्षों ने यह भी सुझाव दिया हैं कि "पूर्ण, सहमत और बाध्यकारी मत (आधिकारिक मत) निश्चित संवाद का आधार हो सकता है।"

धर्माध्यक्षों ने अधिकारियों और नागरिकों के बीच हिंसा की निंदा की है और सभी को शांति के लिए प्रार्थना करने हेतु आमंत्रित किया है। देश में शांति और न्याय की विशेष आवश्यकता है।

न्याय और सत्य की सेवा में कलीसिया

धर्माध्यक्षीय सम्मेलन के जनरल सचिवालय द्वारा 2 नवंबर को जारी एक बयान, राष्ट्रपति पद के मंत्री द्वारा लगाये गये आरोपों को स्पष्ट रूप से इनकार करता है कि कलीसिया 20 अक्टूबर को होने वाले चुनाव के दौरान धोखाधड़ी के आरोपों को बढ़ावा देने के लिए जिम्मेदार है।

इसने उन आरोपों को "पूरी तरह से गलत और बेबुनियाद" कहा और फिर से पुष्टि की कि बोलीविया में काथलिक कलीसिया "न्याय, सच्चाई और सामान्य भलाई" की सेवा में संलग्न है।

बोलिवियाई धर्माध्यक्षों ने पहले ही चुनाव में "धोखाधड़ी के संकेतों पर" अपनी चिंता व्यक्त की थी अक्टूबर में चुनाव के वक्त वे रोम में अमाजोन धर्मसभा में थे।

मतदान समाप्त होने के लगभग 24 घंटे बाद मतगणना को स्थगित कर दिया गया था और फिर अचानक राष्ट्रपति इवो मोरालेस को जल्दी से बड़ा लाभ देने के लिए फिर से खोल दिया गया।

विवादित परिणामों के बावजूद बोलीविया के राष्ट्रपति इवो मोरालेस को राष्ट्रपति चुनावों में विजेता घोषित किए जाने के बाद पूरे बोलीविया में प्रदर्शन शुरू हो गए। मोरालेस का ये चौथा कार्यकाल होगा, वे बोलीविया के पहले ऐसे राष्ट्रपति हैं जो इतने लम्बे समय तक लगातार राष्ट्रपति बने रहेंगे। दरअसल बोलीविया के संविधान के मुताबिक कोई भी उम्मीदवार सिर्फ 2 ही बार राष्ट्रपति बन सकता है, पर इसके बावजूद भी मोरालेस ने लगातार चौथी बार चुनाव लड़ी। जिसकी वजह से वहां की आधी से ज्यादा जनता खफा है।

06 November 2019, 17:22