Vatican News
स्रेब्रेनिका नरसंहार में मारे गये लोगों की स्मृति में, 11.07.2019 स्रेब्रेनिका नरसंहार में मारे गये लोगों की स्मृति में, 11.07.2019   (AFP or licensors)

स्रेब्रेनिका: सुलह की आवश्यकता पर बोस्निया के प्रधान मुफ्ती

विश्व भर में गुरुवार, 11 जुलाई को स्रेब्रेनिका नरसंहार की 24 वीं बरसी मनाई गई। इस नरसंहार में बोस्निया-एर्सेगोविना के स्रेब्रेनिका नगर तथा उसके आस-पास सन् 1995 की 11 जुलाई को कम से कम 8000 किशोरों एवं पुरुषों को मार डाला गया था।

जूलयट जेनेवीव क्रिस्टफर-वाटिकन रेडियो

बोस्निया, शुक्रवार, 12 जुलाई 2019 (रेई, वाटिकन रेडियो): विश्व भर में गुरुवार, 11 जुलाई को स्रेब्रेनिका नरसंहार की 24 वीं बरसी मनाई गई। इस नरसंहार में बोस्निया-एर्सेगोविना के स्रेब्रेनिका नगर तथा उसके आस-पास सन् 1995 की 11 जुलाई को कम से कम 8000 किशोरों एवं पुरुषों को मार डाला गया था।

संयुक्त राष्ट्र संघ द्वारा स्रेब्रेनिका को एक सुरक्षित क्षेत्र घोषित कर दिये जाने के बावजूद इस नरसंहार को अंजाम दिया गया था।

पुनर्मिलन की आवश्यकता

वाटिकन रेडियो से बातचीत में बोस्निया के सेवानिवृत्त प्रधान मुफ्ती तथा नरसंहार के वक्त बोस्नियाई मुसलमानों के आध्यत्मिक गुरु मुस्तफ़ा शेरिक ने कहा कि खेदवश प्रत्यक्ष हत्यारों ने अभी भी माफ़ी नहीं मांगी है उन्हें इस बात से सन्तोष है कि बदले की कार्रवाई नहीं की गई। उन्होंने कहा कि घावों को भरने के लिये पुनर्मिलन की नितान्त आवश्यकता है।

हाल ही में एक शांति पुरस्कार के लिये रोम आये मुफ्ती मुस्तफ़ा शेरिक ने कहा, "पुनर्मिलन सत्य, न्याय एवं अपराध स्वीकार पर आधारित होता है तथा नरसंहार के शिकार बने लोगों द्वारा क्षमा तब ही मिल सकती है जब अपराधी अपना अपराध स्वीकार करें तथा माफ़ी मांगे।"

जवाबदेही की ज़रूरत

प्राधिधर्माध्यक्ष ने कहा कि बोस्निया में ऐसा बिल्कुल भी नहीं हो रहा है इसलिये कि जो लोग नरसंहार के लिये ज़िम्मेदार तथा हेग स्थित अन्तरराष्ट्रीय युद्ध अपराध अदालत द्वारा अपराधी ठहराये गये थे, वे लोग, उन लोगों की ट्राफियां बन गए हैं जो ख़ुद अपने अपराधों पर पर्दा डालने की कोशिश कर रहे हैं।

प्रधान मुफ्ती शेरिक ने इस तथ्य की ओर ध्यान आकर्षित कराया कि व्यक्तिगत अपराध को सामूहिक अपराध से अलग करना बहुत मुश्किल काम है। उन्होंने कहा कि यह कहने के लिये की सभी सर्बी लोग दोषी नहीं हैं, अपराधियों को जवाबदेह बनाया जाना चाहिए तथा उन्हें अपने कृत्यों के लिये माफी माँगनी चाहिए।

12 July 2019, 11:55