खोज

Vatican News
ख्रीस्त के पावन देह का पर्व मनाते संत पापा ख्रीस्त के पावन देह का पर्व मनाते संत पापा  (ANSA)

कोरपुस ख्रीस्ती का पर्व, येसु ने रोटी के रूप में अपने को दे दिया

वाटिकन में आज कोरपुस ख्रीस्ती यानी येसु ख्रीस्त के पवित्रतम शरीर और रक्त का महापर्व मनाया जाता है।

उषा मनोरमा तिरकी-वाटिकन सिटी

वाटिकन सिटी, बृहस्पतिवार, 20 जून 2019 (रेई)˸ इस अवसर पर पर्व की शुभकामनाएँ देते हुए संत पापा फ्राँसिस ने येसु ख्रीस्त के पावन शरीर के संदेश पर प्रकाश डाला।

उन्होंने संदेश में लिखा, "येसु हमारे लिए रोटी बन गये जो तोड़ी गयी। वे हमें भी अपने आपको दूसरों को देने के लिए कहते हैं। हम केवल अपने लिए नहीं बल्कि एक-दूसरे के लिए जीयें।"

अंतिम व्यारी के दौरान येसु ने परमप्रसाद की स्थापना की थी जिसमें उन्होंने शिष्यों को अपना शरीर एवं अपना रक्त, रोटी और दाखरस के रूप में प्रदान करते हुए, इसे मनाते रहने का आदेश दिया था।

विश्व के अन्य देशों में येसु ख्रीस्त के पवित्रतम शरीर और रक्त का महापर्व रविवार 23 जून को मनाया जाएगा। ख्रीस्त के पावन शरीर और रक्त के महापर्व के उपलक्ष्य में 23 को संत पापा फ्राँसिस, रोम के कास्तेल बेरतोने के निकट माता मरियम दुःखियों की दिलासा गिरजाघर के परिसर पर शाम 6.00 बजे ख्रीस्तयाग अर्पित करेंगे।

येसु ख्रीस्त के पवित्रतम शरीर और रक्त के महापर्व के उपलक्ष्य में 20 जून को वाटिकन में छुट्टी का दिन होता है।  

विश्व शरणार्थी दिवस

20 जून को विश्व शरणार्थी दिवस भी मनाया जाता है। संत पापा फ्राँसिस ने अपने दूसरे  ट्वीट में शरणार्थियों का स्वागत करने एवं उनकी सहायता करने हेतु प्रेरित किया।

उन्होंने संदेश में लिखा, "शरणार्थियों के साथ, दिव्य करूणा हमें अवसर प्रदान करती है कि हम सुसमाचार के अनुसार अधिक सहयोगी, अधिक भाईचारापूर्ण एवं अधिक उदार ख्रीस्तीय समुदाय का निर्माण कर सकें।"

20 June 2019, 16:34